मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

ऋषिकेश, जेएनएन। नगर निगम ऋषिकेश और तहसील प्रशासन की ओर से अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाय जा रहा है। जिसको लेकर स्थानीय व्यापारियों ने उप जिला अधिकारी और नगर आयुक्त से बातचीत की। व्यापारियों का कहना है कि अतिक्रमण के नाम पर व्यापारियों का उत्पीड़न किया जा रहा है। 

दरअसल, मंगलवार को नगर निगम और तहसील प्रशासन ने नगर क्षेत्र में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान शुरू किया था। देहरादून और हरिद्वार मार्ग पर सड़क से अतिक्रमण को हटाया गया। इस दौरान नगर निगम के कर्मचारियों ने कुछ दुकानदारों का सामान जब्त कर दिया था। जिससे नाराज व्यापारी बुधवार को नगर निगम पहुंचे। 

व्यापारियों ने उप जिलाधिकारी ऋषिकेश और नगर आयुक्त से अतिक्रमण के विषय पर वार्ता की। व्यापारियों का कहना था कि नगर निगम कर्मचारी ने व्यापारियों का सामान जब्त किया गया, जो गलत है। व्यापारियों ने आश्वस्त किया कि वे अतिक्रमण हटाने में प्रशासन का पूरा सहयोग करेंगे। मगर, कोई अधिकारी और कर्मचारी व्यापारियों को बेवजह प्रताड़ित ना करें। 

इस दौरान दोनों पक्षों में सहमति बनी की नाली से नाली के बीच में कोई भी व्यापारी अपना सामान बाहर नहीं रखेगा। राष्ट्रीय राजमार्ग से 80 फीट के अंदर के अतिक्रमण को हटाया जाएगा। इस अवसर पर नगर आयुक्त से नगर की नालियों की सफाई के संदर्भ में और आवारा पशुओं की समस्या के निस्तारण के संबंध में भी अनुरोध किया गया।

यह भी पढ़ें: कूड़ा उठान के यूजर चार्ज में हो रही है अवैध वसूली, ऐसे हो रहा है खेल

यह भी पढ़ें: दून में हर दिन लग रहा ट्रैफिक जाम, राहत की नहीं है उम्मीद

यह भी पढ़ें: 12900 हेक्टेयर भूमि का सर्वे नगर निगम के लिए बना चुनौती, जानिए वजह

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप