देहरादून, [जेएनएन]: रमजान के आखिरी हफ्ते में बाजारों की रौनक काफी बढ़ गई है। 16 जून को ईद का त्योहार होने के कयास लगाए जा रहे हैं। त्योहार को लेकर लोगों में काफी उत्साह है। साथ ही बाजारों में बड़ी संख्या में लोग त्योहार की खरीददारी के लिए पहुंच रहे हैं। 

देहरादून के पलटन बाजार में इन दिनों लोग कपड़े, जूते, श्रृंगार, सजावट के सामान से लेकर ड्राई फ्रूट और सेवइयों की खरीददारी कर रहे हैं। यहां तक कि शहर के बाजार देर शाम तक गुलजार नजर आ रहे हैं। ॉ

महकने लगी इत्र की खुशबू 

जामा मस्जिद के पास इत्र की दुकानें महकने लगी हैं। ऐसी मान्यता है कि इत्र लगाकर नमाज पढ़ने से सवाब मिलता है। दुकानों में बेला, चंपा, चमेली, जूही, हरसिंगार, चंदन और मोगरे के फूलों से बने इत्र की खासी डिमांड है। 100 रुपये से लेकर 1000 रुपये की कीमत तक का इत्र बाजार में मौजूद है। 

मीठा खिलाकर होगी मेहमान नवाजी 

ईद के मौके पर सेवइयों से मुंह मीठा कराकर मेहमान नवाजी का प्रचलन है। ऐसे में लोग सेवइयों के साथ ही ड्राई फ्रूट्स की भी खरीददारी कर रहे हैं। दुकानदार अनवर ने बताया कि सेवइयों में भुनी हुई, मोटी और महीन सेवइयां बाजार में उपलब्ध हैं। 

महिलाओं में शॉपिंग का दिख रहा क्रेज 

सूट और मैचिंग सेंटर में बड़ी संख्या में महिलाएं उमड़ रही हैं। उनमें आकर्षक परिधान, दुपट्टों से लेकर मैचिंग चूड़ियों और श्रृंगार का सामान लेने का क्रेज दिख रहा है। इसके अलावा वे सजावट का सामान जैसे-चादर, कुशन कवर, फूलदान आदि की भी खरीददारी करती नजर आ रही हैं। 

खूब बिक रहे लखनवी कुर्ते और नमाजी टोपियां 

ईद के मौके पर नए कपड़े पहनकर नमाज अदा करने की परंपरा है। दुकानदार महेश छाबड़ा ने बताया कि पुरुषों के लिए खास लखनवी चिकन, पठानी कुर्ते बिक रहे हैं। खादी, कॉटन, सिल्क के कुर्तो की कीमत 300 से हजार रुपये तक है। बच्चों के कुर्ते 250 से 600 की रेंज में मौजूद हैं। वहीं 60-250 की कीमत में सहारनपुरी, तुर्की, रामपुरी नमाजी टोपियों की भी खूब बिक्री हो रही है।

यह भी पढ़ें: 15 जून की रात निकल सकता है चांद, अगले दिन ईद; सजे बाजार

यह भी पढ़ें: कुमाऊं के बागनाथ धाम मंदिर के अंदर नहीं होगी पूजा, जानिए कारण

यह भी पढ़ें: कैलास मानसरोवर यात्रा के लिए 300 यात्री वेटिंग में