देहरादून, [जेएनएन]: होली के मौके पर आपके घरों में भी गुझिया जरूर बनती होगी। यह ऐसा पकवान है जो आनंद, उत्साह और प्रेम के रंगों में मिठास घोल देता है। पर, क्या आपको मालूम है कि गुझिया कहां से आई और कैसे होली के त्योहार से जुड़ी। इसे बनाने का अंदाज भी देश के हर प्रांत में अलग-अलग है। उत्तर भारत में जहां गुझिया में खोया और ड्राई फ्रूट्स की स्टफिंग की जाती है, वहीं महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोआ में यह भरावन नारियल की होती है। जो इसे अलग फ्लेवर देती है।

 मिडिल ईस्ट से आई गुझिया

गुझिया दरअसल हिंदुस्तान का पकवान नहीं है, बल्कि मिडिल ईस्ट से इसका भारत में आगमन हुआ। असल में गुझिया का विचार समोसे से आया। मैदे के नमकीन समोसे को मिठाई में कैसे बदला जाए, इसी सोच से गुझिया का जन्म हुआ। जैसे समोसे में आलू और मैदे ने फिलो शीट और कटे हुए मीट की जगह ली और पश्चिम एशिया से होकर भारत के मध्य भाग तक पहुंचा। वैसे ही गुझिया, जो समोसे का ही अंग है, भारत पहुंची और सब-कॉन्टिनेंटल शेफ्स ने उसकी तकनीक और सामग्री में थोड़ा बदलाव कर उसे वर्तमान स्वरूप दिया। गुझिया एक मध्यकालीन व्यंजन है, जो मुगल काल में यहां पनपा और कालांतर में त्योहारों की स्पेशल मिठाई बन गई।

कुछ लोगों को घर में गुझिया बनाना मुश्किल लगता है, लेकिन इसे बनाना बेहद आसान है। आइए जानते हैं इसकी रेसिपी

सामाग्री: तलने के लिए घी या तेल, मैदा, छह बड़े चम्मच घी पिघला हुआ।

भरने के लिए: 500-600 ग्राम खोया, आधा छोटा चम्मच हरी इलायची पाउडर, 25 ग्राम बारीक कटे बादाम, 25 ग्राम किशमिश, 25 ग्राम सूखा घिसा नारियल, 350 ग्राम बूरा या टेस्ट के हिसाब से लें।

 बनाने की विधि:

छह बड़े चम्मच घी में मैदा मिलाकर गूंथ लें, लेकिन यह मैदा सॉफ्ट हो। इसे ढककर अलग रख दें और खोया को मैश करके लाइट ब्राउन होने तक कढ़ाई में फ्राई करें। खोये में इलायची पाउडर और बूरा मिलाकर अच्छी तरह मिक्स कर लें। इसमें बादाम, नारियल, काजू और किशमिश मिला लें। फिर दो मिनट तक फ्राई कर इसे ठंडा होने दें। गूंथे हुए आटे के छोटे बॉल्स बना लें, जिनका डायमीटर चार इंच के करीब हो। अब गुझिया बनाने का सांचा लें। मैदा की बनाई गई लोई को बेल लें और इसकी आधी साइड में खोया मिक्सचर भर लें। अब इसे सांचे में रखकर दबा दें। बाहर निकले एक्स्ट्रा पोर्शन को हटा दें। इसी तरह दूसरी लोई को बना लें। सारी गुझिया बनाकर एक कपड़े पर रख लें। कढ़ाई में घी गर्म करके इसे डीप फ्राई कर लें। जब इसका कलर गोल्डन ब्राउन हो जाए, तो बाहर निकाल लें।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की होली को गीतों की विविधता करती है विशिष्टता प्रदान

यह भी पढ़ें: होली में जलेंगे रंग वाले पटाखे, उड़ेगा गुलाल

यह भी पढ़ें: सौहार्द से खेलें होली, पुख्ता रखें इंतजाम

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप