देहरादून, जेएनएन। बीसीसीआइ उपाध्यक्ष एवं क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के नव निर्वाचित सचिव महिम वर्मा ने सचिव का पदभार संभाल लिया है। उन्होंने प्रदेश में क्रिकेट गतिविधियों को बढ़ावा देने को अपनी प्राथमिकता बताई।

बीते रविवार को क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के सचिव पद के चुनाव में महिम वर्मा ने एकतरफा जीत दर्ज की थी। महिम ने कॉन्वेंट रोड स्थित सीएयू कार्यालय में सचिव का पदभार संभाला। इस दौरान महिम वर्मा ने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि जल्द ही वह बीसीसीआइ उपाध्यक्ष पद को त्याग देंगे। इसके लिए प्रक्रिया चल रही है। 

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में क्रिकेट को बढ़ावा देना ही उनकी प्राथमिकताओं में शामिल है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में जल्द क्रिकेट ऐकेडमियों का निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावा पहाड़ में बारिश को देखते हुए इंडोर हॉल बनाए जाएंगे। इसमें बारिश के दौरान भी खिलाड़ी प्रैक्टिस कर सकेंगे। 

बताया कि बीसीसीआइ के घरेलू सत्र के समाप्त होने के बाद देहरादून के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में ऐकेडमी का संचालन किया जाएगा। जिसमें प्रदेश के विभिन्न आयु वर्गों के खिलाड़ियों के लिए कोचिंग शिविर आयोजित किए जाएंगे। इन खिलाडिय़ों के रहने के लिए गेस्ट हाउस की भी व्यवस्था की जाएगी।

अन्य पदाधिकारियों ने बनाई दूरी

महिम वर्मा के क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड सचिव पदभार संभालने के दौरान एसोसिएशन के अन्य सदस्य सीएयू कार्यालय में मौजूद नहीं रहे। इस बीच एसोसिएशन अध्यक्ष जोत सिंह गुनसोल, उपाध्यक्ष संजय रावत, कोषाध्यक्ष पृथ्वी सिंह नेगी व सह सचिव अवनीष वर्मा उपस्थित नहीं रहे।

पंजीकृत क्रिकेटर अब अनाधिकृत टूर्नामेंट में नहीं खेलेंगे

क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड से पंजीकृत क्रिकेटर अब अनाधिकृत टूर्नामेंट में नहीं खेल सकेंगे। अगर खिलाड़ी ऐसा करते पाए गए तो उन पर दो साल का प्रतिबंध लगाया जाएगा।

प्रदेश के युवा क्रिकेटरों को फर्जीवाड़े से बचाने के लिए क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड आगे आई है। इसलिए बीसीसीआइ की गाइडलाइन को भी प्रदेश में सख्ती से लागू किया जा रहा है। सीएयू सचिव महिम वर्मा ने बताया कि सीएयू में रजिस्टर्ड क्रिकेटर गैर मान्यता प्राप्त क्रिकेट टूर्नामेंट में नहीं खेल पाएंगे। 

जिला स्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिताओं के लिए भी सीएयू से संबद्ध जिला एसोसिएशन से मान्यता लेना जरूरी है। अगर कोई खिलाड़ी गैर मान्यता प्राप्त क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलता या गैर पंजीकृत क्रिकेट गतिविधि में प्रतिभाग करता हुआ पकड़ा गया, तो उस पर दो साल का प्रतिबंध लगा दिया जायेगा। ऐसे खिलाड़ी दो साल तक प्रदेश में होने वाले सीएयू के क्रिकेट टूर्नामेंट और क्रिकेट गतिविधि में प्रतिभाग नहीं कर सकेंगे।

पीसीडीए ने एनएचओ को आठ विकेट से हराया

केंद्रीय सरकारी कर्मचारी कल्याण समन्वय समिति (सीजेईडब्ल्यूसीसी) की क्रिकेट प्रतियोगिता में पीसीडीए ने एनएचओ को आठ विकेट से हराया। हाथीबड़कला स्थित सर्वे स्टेडियम में हुए मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने मैदान में उतरी एनएचओ की टीम 13.5 ओवर में 66 रन पर ऑलआउट हो गई। 

यह भी पढ़ें: क्रिकेट महासमर के प्रति उदासीन नजर आ रही है क्रिकेट एसोसिएशन

एसएस गुसाईं ने 26, मोहम्मद अशफाक ने 32 व विनोद ने 14 रन बनाए। पीसीडीए के करन, दीपक और पीएस सिंह ने दो- दो विकेट चटकाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी पीसीडीए के दीपक तोमर 17 व दीपक भट्ट के 21 रनों की बदौलत टीम ने 8.4 ओवर में आठ विकेट शेष रहते मैच जीत लिया। एनएचओ के मनोज कुमार ने दो विकेट हासिल किए।

यह भी पढ़ें: सीएयू को मिली विज्जी ट्रॉफी के मैचों की मेजवानी, दून में होंगे मुकाबले

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस