देहरादून, जेएनएन। Uttarakhand Coronavirus Update उत्तराखंड में कोरोना वायरस अब हारता दिख रहा है। प्रदेश में पहली बार मरीजों का रिकवरी रेट बढ़कर 81.40 फीसद पहुंच गया है। शुक्रवार शाम सात बजे तक कोरोना के 64 नए मामले सामने आए, तो 76 स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट गए। अब तक कुल संक्रमितों की संख्‍या 3048 पहुंच गई है, जबकि 2481 लोग स्‍वस्‍थ होकर डिस्‍चार्ज हो गए हैं। सूबे में अभी 498 एक्टिव केस हैं। वहीं, 42 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है, जबकि 27 लोग राज्‍य से बाहर जा चुके हैं। 

हरियाणा की महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव, होटल को किया सील

ऋषिकेश के वीरभद्र एम्स मार्ग स्थित योगा रिट्रीट होटल में ठहरी हरियाणा की एक महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट एक दिन पूर्व पॉजिटिव आई। स्थानीय प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को इसकी सूचना तक नहीं दी गई। कोविड कंट्रोल रूम से सूचना आने के बाद प्रशासन ने होटल को सील कर दिया है। महिला का कोविड टेस्ट स्थानीय एक लैब में कराया गया था। महिला को एम्स में भर्ती कराया गया है।

पिछले 24 घंटों में एम्स में कोरोना के दो मामले 

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में दो लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। पॉजिटिव पाए गए मरीजों में एक एम्स की महिला नर्सिंग ऑफिसर है, जबकि दूसरा कोटद्वार का रहने वाला है। एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि संस्थान में की गई सैंपलिंग में दो लोगों की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उन्होंने बताया कि टिहरी विस्थापित पशुलोक ऋषिकेश निवासी एम्स संस्थान की ब्रेस्ट सर्जरी विभाग की 27 वर्षीय नर्सिंग ऑफिसर संक्रमित पाई गई हैं। उनका बीती 30 जून को एम्स ओपीडी में कोविड सैंपल लिया गया था। महिला नर्सिंग ​ऑफिसर बीते माह दो जून को रामपुर उत्तरप्रदेश से लौटी थी। 

दूसरा मामला पौड़ी गढ़वाल के कोटद्वार का है। कोटद्वार निवासी एक 40 वर्षीय पुरुष जो कि शरीर में दर्द की शिकायत के साथ बीती एक जुलाई को एम्स इमरजेंसी में आए थे। यहां मरीज का कोविड सैंपल लिया गया था और उन्हें एम्स के कोविड आइसालेशन वॉर्ड में भर्ती कर दिया गया था। गुरुवार देर शाम उसकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है, जिसके बाद मरीज को कोविड वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि इन मामलों को लेकर संस्थान की ओर से स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।

होम क्वारंटाइन का उल्लंघन करने पर मुकदमा दर्ज

मुरादाबाद से घर आने के बाद होम क्वारंटाइन किया गया युवक घर के बाहर घूमते मिला। मामले की शिकायत पर पुलिस ने उसके खिलाफ कोविड-19 उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक नगला, पंतनगर निवासी मोहम्मद हनीफ अंसारी पुत्र अब्दुल गनी 28 जून को मुरादाबाद से घर आया था। इस दौरान बॉर्डर पर उसे रोककर स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटाइन कर दिया था, जिसके बाद से वह होम क्वारंटाइन में था। बताया जा रहा है कि दो-तीन दिन से वह घर के बाहर आसपास घूम रहा था। शिकायत पर पुलिस ने देखा तो वो घर के बाहर मिला। इस पर उसके खिलाफ कोविड-19 के नियमों के उल्लंघन का केस दर्ज किया गया है। 

गुरुवार को 37 मामलों की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव 

प्रदेश में अब तक कोरोना के 2984 मामले आए हैं, जिनमें 2405 स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 510 एक्टिव केस हैं। कोरोना पॉजिटिव 27 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। जबकि, 42 लोगों की मौत भी हो चुकी है। इनमें सहारनपुर निवासी 72 वर्षीय एक बुजुर्ग की गुरुवार को दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मौत हुई है। उन्हें 28 जून को अस्पताल में भर्ती किया गया था। बुजुर्ग मधुमेह, फेफड़ों की समस्या और हृदय रोग से भी पीड़ित थे। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को 1242 सैंपल की जांच रिपोर्ट मिली है, जिनमें 1205 की रिपोर्ट नेगेटिव और 37 केस पॉजिटिव हैं। नैनीताल में सर्वाधिक 17 मामले आए हैं।

 

इनमें 13 पूर्व संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आए हैं। तीन लोग दिल्ली से लौटे हैं, जबकि एक की ट्रेवल हिस्ट्री अभी पता नहीं लग पाई है। ऊधमसिंहनगर में भी 16 और मामलों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इनमें दो लोग पूर्व में संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के संपर्क में आए हैं। छह अन्य नोएडा, पांच दिल्ली और एक-एक व्यक्ति बिजनौर, कुवैत व दक्षिण अफ्रीका से लौटा है। अल्मोड़ा, पौड़ी और देहरादून में एक-एक व्यक्ति संक्रमित मिला है। यह सभी दिल्ली से लौटे लोग हैं।

संक्रमण ने चिंता बढ़ाई, रिकवरी रेट से राहत

राजधानी देहरादून में कोरोना के संक्रमण ने लॉकडाउन से लेकर अनलॉक 1.0 तक पांच फेज में हर स्तर पर परीक्षा ली। प्रदेश में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 15 मार्च को यहीं दर्ज किया गया और पहला कंटेनमेंट जोन भी यहीं बना। इसके बाद जमातियों के संक्रमण ने भी दून की व्यवस्थाओं को चुनौती दी। इस पर दून ने काबू पाया ही था कि प्रवासियों की आमद, निरंजनपुर सब्जी मंडी, एम्स ऋषिकेश में तेजी से बढ़े संक्रमण के मामलों ने नई परेशानी खड़ी कर दी। हालांकि, अच्छी बात यह रही कि दून ने न सिर्फ इस सबका डटकर मुकाबला किया, बल्कि कोरोना को हर मोर्चे पर मात देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। जून में संक्रमण का ग्राफ जहां अधिकतम 366 फीसद पर पहुंचा, वहीं मरीजों के ठीक होने की दर ने रिकॉर्ड 1350 फीसद का आंकड़ा छू लिया।

दो और कंटेनमेंट जोन किए गए समाप्त

दून के दो और कंटेनमेंट जोन गुरुवार को समाप्त हो गए। अब कंटेनमेंट जोन की कुल संख्या 15 रह गई है। समाप्त कंटेनमेंट जोन में जॉन ढाबा कैंट रोड मोथरोवाला व क्लेमेंटटाउन के विवेक विहार के क्षेत्र शामिल है। लगातार 28 दिन तक यहां कोरोना संक्रमण का नया मामला सामने के आने के बाद पाबंदी समाप्त की गई। 

यह भी पढ़ें: Coronavirus: कोरोना के लिहाज से उत्तराखंड में भारी गुजरा जून का महीना

अपर निदेशक ने कर्मचारियों के साथ कराया कोरोना टेस्ट

शिक्षा विभाग में बेहतर पहल करते हुए गढ़वाल मंडल के अपर निदेशक महावीर सिंह बिष्ट ने 56 कर्मचारियों के साथ कोरोना टेस्ट करवाया। उन्होंने बताया कि अनलॉक शुरू होने के पहले दिन से ही दफ्तर में किसी न किसी कार्य से बाहरी लोगों का आनाजाना हो रहा है। एहतियातन जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क कर कोरोना की जांच करवाई गई। पहले दिन कुल 57 लोगों की जांच हुई। शुक्रवार को करीब 40 और लोगों के सैंपल लिए जाएंगे। उन्होंने गढ़वाल मंडल के सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों को भी जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से सामंजस्य बनाकर पूरे दफ्तर की कोरोना जंाच करवाने के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: कोरोना के साथ डिप्रेशन से भी लड़ाई, हेल्पलाइन नंबरों पर लें सलाह

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस