देहरादून, [जेएनएन]: विकासनगर के बेलावाला में 10 मई 2013 को हुई विवाहिता की हत्या के मामले में अपर जिला जज तृतीय अजय चौधरी की अदालत ने दोषी पति को उम्रकैद की सजा सुनाई है। सजा सुनाने के बाद दोषी पति को सुद्धोवाला जिला कारागार भेज दिया गया।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता जेके जोशी ने अदालत को बताया कि विवाहिता की हत्या उसके पति ने 10 मई 2013 को की थी। विकासनगर के बेलावाला निवासी कुलदीप कुमार पुत्र स्व. ओमप्रकाश की पत्नी पूनम 10 मई 2013 को रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हो गई थी। गांव वालों को कुलदीप ने बताया कि उसकी पत्नी उसे बिना बताए कहीं चली गई है।

इधर, गांव में पूनम की गुमशुदगी की चर्चाएं जोर पकड़ने लगी तो लोगों को शक हुआ कि पूनम को गायब करने के पीछे उसके पति का हाथ है। संदेह पुख्ता होने पर 16 मई को गांव के लोग कुलदीप को लेकर विकासनगर थाने पहुंच गए। यहां कुलदीप ने स्वीकार किया कि उसने पूनम की हत्या कर दी है। 

हत्या के बाद उसके शव को बोरे में बंद कर पास के एक नाले में फेंक दिया। कुलदीप के बयान दर्ज करने के बाद उसकी निशानदेही पर नाले से शव को बरामद कर लिया गया था। मामले में विकासनगर पुलिस ने कुलदीप पर हत्या और साक्ष्य मिटाने का अभियोग पंजीकृत किया। 

इसके बाद कुलदीप के मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दर्ज कराए गए। यहां भी उसने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए कहा कि उसे पूनम के चाल-चलन पर शक हो गया था। कई बार मना करने पर भी वह अन्य लोगों से मेलजोल बढ़ा रही थी। गुस्से में आकर उसने उसकी गला घोंट कर हत्या कर दी।

सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से कुलदीप के बयान लेने वाले मजिस्ट्रेट समेत 13 गवाहों के बयान हुए। बचाव पक्ष से एक भी गवाह पेश नहीं हो सका।

यह भी पढ़ें: पिता को नहीं था बेटे का शराब पीना पसंद, काट डाला गंडासे से

यह भी पढ़ें: यतीन ने ही मारी थी खुद को गोली, साक्ष्य मिटाने में दो गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: बागेश्वर के इंजीनियर की दून में गोली मारकर हत्या

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप