राज्‍य ब्‍यूरो, देहरादून। कांग्रेस ने पांच प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी करने के साथ ही दूसरी सूची में शामिल चार प्रत्याशियों को भी बदल दिया है। पार्टी ने बड़ा बदलाव करते हुए रामनगर से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की सीट बदल दी है। हरीश रावत नैनीताल जिले की रामनगर सीट के स्थान पर इसी जिले की लालकुआं सीट से चुनाव लड़ेंगे। पूर्व विधायक व प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत को रामनगर से टिकट नहीं दिया गया है। उन्हें अल्मोड़ा जिले की सल्ट सीट से टिकट दिया गया है। पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत के खाते में टिकट नहीं आया है। टिहरी सीट पर पार्टी ने किसी को भी टिकट नहीं दिया है।

कांग्रेस ने 10 प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी की। कांग्रेस की बीती 24 जनवरी को 11 प्रत्याशियों की सूची घोषित होते ही विवाद उत्पन्न हो गया था। पार्टी ने रामनगर से पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति अध्यक्ष हरीश रावत को प्रत्याशी बनाया था। इस सीट से पहले चुनाव लड़ चुके और प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत सिंह रावत ने टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर हरीश रावत के विरोध में मोर्चा खोल दिया था। पार्टी ने रणजीत सिंह रावत के रामनगर पर टिकट के दावे को भी पूरा नहीं किया। उनकी नाराजगी देखते हुए हरीश रावत को वहां से टिकट काटा गया है।

हरीश रावत को लालकुआं से टिकट देकर कांग्रेस ने एक तीर से कई निशाने साधे। हरीश रावत के चुनाव लड़ने की स्थिति में लालकुआं से विरोध का झंडा बुलंद करने वाले पूर्व मंत्री हरीशचंद्र सिंह दुर्गापाल और टिकट के दावेदार हरेंद्र बोहरा की नाराजगी भी दूर हो सकेगी। नैनीताल जिले की ही कालाढूंगी सीट से डा महेंद्र सिंह पाल, लालकुुआं से संध्या डालाकोटी को टिकट दिया गया था। अब इन तीन सीटों पर बदलाव किया गया है। लालकुआं से संध्या डालाकोटी का टिकट काटा गया है।

कालाढूंगी से पहले घोषित किए गए प्रत्याशी पूर्व सांसद महेंद्र सिंह पाल अब रामनगर से चुनाव लड़ेंगे। महेश शर्मा की नाराजगी दूर कर पार्टी ने उन्हें कालाढूंगी से प्रत्याशी बनाया गया है। पार्टी ने एक परिवार से एक टिकट देने की व्यवस्था में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के लिए ढील दी है। उनकी पुत्री अनुपमा रावत को हरिद्वार जिले की हरिद्वार ग्रामीण सीट से टिकट दिया गया है। इसी सीट से हरीश रावत ने पिछला विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन वह हार गए थे।

हरिद्वार जिले की रुड़की सीट से यशपाल राणा चुनाव लड़ेंगे और ज्वालापुर सुरक्षित सीट से बरखा रानी का टिकट काटकर इसे रवि बहादुर को दिया गया है। पार्टी ने डोईवाला सीट पर भी युवा चेहरे मोहित उनियाल का टिकट बदला है। अब मोहित का टिकट काटकर गौरव चौधरी को दिया गया है। पौड़ी जिले की चौबट्टाखाल सीट से केसर सिंह नेगी चुनाव मैदान में होंगे। इस सीट से पूर्व मंत्री हरक सिंह को टिकट देने की चर्चा थी।

हरक रहेंगे विधानसभा से दूर

पार्टी में वापसी करने वाले पूर्व मंत्री हरक सिंह के दूसरे टिकट के दावे पर विचार नहीं किया गया है। ऐसा भी पहली बार होगा, जब हरक सिंह के विधानसभा में पहुंचने पर ब्रेक लगा है। चुनावी युद्ध से दूर होने के कारण उनके पांचवीं विधानसभा में पहुंचने के आसार नहीं हैं। अब कांग्रेस की ओर से सिर्फ टिहरी सीट पर टिकट तय होना है। इस सीट पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय की दावेदारी तय मानी जा रही थी। किशोर के बारे में चर्चा है कि वह भाजपा में जा सकते हैं।

ये है कांग्रेस के 10 प्रत्याशियों की सूची:

लालकुआं- हरीश रावत

रामनगर - महेंद्र सिंह पाल

नरेंद्रनगर - ओमगोपाल,

सल्ट - रणजीत सिंह रावत

हरिद्वार ग्रामीण - अनुपमा रावत,

रुड़की से यशपाल राणा,

ज्वालापुर से रवि बहादुर

चौबट्टाखाल -केसर सिंह नेगी,

डोईवाला-गौरव चौधरी

कालाढूंगी- महेश शर्मा

Edited By: Sunil Negi