देहरादून, जेएनएन। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने जीएमवीएन और केएमवीएन के एकीकरण पर मुहर लगा दी है। मंत्री ने कहा कि जल्द दोनों निगमों को मर्ज कर एक नाम दिया जाएगा। इसके लिए सीए से विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। ढांचा तय होते ही दोनों को एक छत के नीचे लाकर पर्यटन के क्षेत्र में कार्य कराया जाएगा। 

पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि एक नेचर की दोनों संस्थाएं एक छत के नीचे काम करेंगीं। इस मामले में दोनों संस्थाओं के एमडी के साथ बैठक करने के बाद नफा-नुकसान पर चर्चा कर यह फैसला लिया गया है। इसका लाभ राज्य के पर्यटन को मिलेगा। मैन पावर से लेकर एक जैसी पर्यटन गतिविधियां मिलकर संचालित होंगी।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि इससे दोनों संस्थाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार और कार्य क्षमता में इजाफा होगा। इससे पहले मंत्री ने बंद पड़े पर्यटक आवास गृह और पर्यटन से जुड़ी योजनाओं की समीक्षा की। मंत्री ने कई कार्यों में लापरवाही बरतने पर नाराजगी जाहिर की। इस मौके पर पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा कि पर्यटन नीति बनने से प्रदेश को लाभ मिलेगा। एडवेंचर टूरिज्म को लेकर भी ठोस नीति बनाई जा रही है। 

पिता की प्रॉपर्टी पर बेटे को मिलेगा लोन 

होम स्टे योजना में बैंकर्स द्वारा लोन वितरण में लापरवाही को पर्यटन मंत्री ने गंभीरता से लिया। कहा कि पिता की प्रॉपर्टी पर अब बेटे को भी लोन मिल सकेगा। उन्होंने बैंक और पर्यटन विभागों को होम स्टे से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के निर्देश दिए। 

232 करोड़ के प्रस्ताव स्वीकृत 

इन्वेस्टर्स समिट में पर्यटन विभाग से जुड़े 14 हजार करोड़ के प्रस्ताव मिले थे। इन प्रस्तावों का अध्ययन किया जा रहा है। करीब 232 करोड़ के प्रस्तावों को स्वीकृति दे दी गई है। सिंगल विंडो सिस्टम से पर्यटन कारोबारियों को लाभ मिलेगा। इसमें डेढ़ करोड़ के अनुदान से लेकर दूसरी सभी सुविधाएं दी जा रही हैं। 

पाटा से प्रदेश के एडवेंचर टूरिज्म को लगेंगे पंख 

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि पाटा (पैसेफिक एशिया ट्रेवल एसोसिएशन) प्रदेश के एडवेंचर्स ट्रेवल एंड रिस्पॉन्सेबल टूरिज्म को दुनिया तक पहुंचाएगा। इसके लिए 13 से 15 फरवरी 2019 को ऋषिकेश में अंतरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस आयोजित की जाएगी। इसमें दुनियाभर के ट्रैवल ट्रेड व्यवसायियों को स्थानीय एडवेंचर से रूबरू कराया जाएगा। इसमें स्थानीय पर्यटन व्यवसायियों को भी आमंत्रित किया गया है। 

पर्यटन निदेशालय में पाटा की तरफ से आयोजित कार्यक्रम में पर्यटन मंत्री महाराज ने कहा कि प्रचार-प्रसार और जानकारी के अभाव में हमारा एडवेंचर टूरिज्म दुनिया तक नहीं पहुंच पा रहा है। उन्होंने कहा कि पाटा एक ऐसा माध्यम है, जिसके मार्फत दुनियाभर के एडवेंचर्स प्रेमी ही नहीं बल्कि कारोबारी भी आकर्षक होंगे। इसके लिए फरवरी 2019 में पाटा का आयोजन ऋषिकेश स्थित गंगा रिसोर्ट में किया जा रहा है। यहां देश-विदेश के एडवेंचर प्रेमियों को साहसिक पर्यटन को लेकार समझाया जाएगा। इस दौरान प्रदेश की पहचान लोक संस्कृति, खान-पान से भी रूबरू कराया जाएगा। 

इसके लिए स्थानीय ट्रैवल ट्रेड व्यवसायियों को बेहतर पैकेज के साथ आमंत्रित किया गया है। ताकि वह दुनिया के एडवेंचर प्रेमियों से जुड़ सकें। इस मौके पर एडवेंचर एसोसिएशन के अध्यक्ष कैप्टन स्वदेश कुमार ने कहा कि 30 साल बाद पाटा का आयोजन भारत और उत्तराखंड में पहली बार हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन में 36 देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। इधर, पाटा के प्रतिनिधियों ने कहा कि इससे पहले थाईलैंड, चीन, यूएई में पाटा ट्रेवल कॉन्फ्रेंस और मार्ट का आयोजन हुआ। 

इस मौके पर पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर समेत प्रदेशभर के एडवेंचर स्टेक होल्डर मौजूद रहे। बीटल्स आश्रम में फ्री एंट्री पाटा के आयोजन के दौरान देश-विदेश से आने वाले एडवेंचर प्रेमियों को ऋषिकेश स्थित बीटल्स आश्रम में फ्री में भ्रमण कराया जाएगा। इसके लिए वन मंत्री ने अपनी सहमति दी है। इसके अलावा ऋषिकेश और हरिद्वार क्षेत्र में योगा, अध्यात्म और प्रकृति पर्यटन से भी रूबरू कराएंगे। 

यह भी पढ़ें: नए साल का तोहफा, 3600 करोड़ की योजना में अब 40 फीसद अनुदान

यह भी पढ़े: 100 सहकारी समितियों में बिकेंगे पतंजलि के उत्पाद, ये होगा फायदा

यह भी पढ़ें: अब उत्तराखंड में बहुद्देश्यीय समितियां भी बेचेंगी पतंजलि के उत्पाद, मिलेगा रोजगार

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस