जागरण संवाददाता, देहरादून: शारदीय नवरात्र में द्रोण नगरी का माहौल भक्तिमय बना हुआ है। गुरुवार को नवमी पर घर व मंदिरों में माता के नौवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री का दर्शन और पूजन हुआ। श्रद्धालुओं ने माता रानी को भोग लगाने के साथ ही कन्याओं को जिमाया एवं सुख-समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी अपने आवास पर विधि-विधान से कन्या पूजन किया। इस दौरान उन्होंने नौ कन्याओं को भोजन कराया।

दून में नवमी के मौके पर पंचायती मंदिर, टपकेश्वर महादेव, पृथ्वीनाथ मंदिर, सनातन धर्म मंदिर समेत अन्य मंदिरों में माता का पूजन किया गया। घर और मंदिरों में श्रद्धालुओं ने मां भगवती को हलवा, चने, नारियल, पान-सुपारी, लांग-इलायची श्रृंगार सामग्री इत्यादि अर्पण कर मनोकामना पूर्ण की प्रार्थना की।

श्री श्याम सुंदर मंदिर पटेल नगर में नवमी पर सुबह भजन-कीर्तन, हवन एवं 108 कन्याओं का पूजन कर उपहार दिए गए। इस दौरान मां भगवती का विशेष श्रृंगार कर आरती एवं विश्व शांति की प्रार्थना की गई। इस मौके पर मंदिर के प्रधान अवतार मुनियाल, गोविंद मोहन, भूपेंद्र चड्ढा, चंद्र मोहन आनंद, मनोज सूरी, यशपाल मग्गो, राजू गुलानी, राम सिंह, महेंद्र भसीन, गुलशन नंदा आदि मौजूद रहे।

माता से की प्रदेश के विकास की कामना

माता वैष्णो देवी गुफा योग मंदिर टपकेश्वर महादेव देहरादून में नवरात्र पर विशेष पूजा अनुष्ठान किया गया। मंदिर के संस्थापक आचार्य बिपिन जोशी ने माता की पूजा कर विश्व शांति, देश के चहुमुखी विकास, देवभूमि उत्तराखंड की सुख-शांति और समृद्धि की मंगल कामना की। इस दौरान नीरज अग्रवाल, डा. मथुरा दत्त जोशी, सिकंदर सिंह, नीलम अग्रवाल, भगवती जोशी, गीता जोशी समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

माता के भजनों पर भक्तों ने किया डांडिया

परम पूज्य महंत श्रीश्री 108 रविंद्र पुरी महाराज के पावन सानिध्य में नवमी के मौके पर बुधवार मध्यरात्रि से प्रारंभ हुआ सामूहिक हवन भोर में आरती के पश्चात संपन्न हुआ। इसके बाद मंदिर में कंजक पूजन किया गया। भजन संध्या में शिवरंजन जागरण पार्टी ने माता की भेंट गाकर सभी को मंत्रमुग्ध किया। रात को मंदिर प्रांगण में मां के भजनों पर भक्तों ने डांडिया नृत्य किया। इस मौके पर दिगंबर दिनेश पुरी, दिगंबर भागवत पुरी, नवीन जैन, नरेंद्र ठाकुर, पुनीत मेहरा, अनुराग अग्रवाल, अनिल गोयल संजय गर्ग समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें:- जौनसार-बावर में परपंरागत तरीके से मना दुर्गाष्टमी का पर्व

Edited By: Sunil Negi