जागरण संवाददाता, देहरादून: जेईई-मेन को लेकर उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। परीक्षा छह से 11 जनवरी के बीच आयोजित की जाएगी। यह परीक्षा अब साल में दो बार आयोजित की जाती है। पहली परीक्षा जनवरी में और दूसरी परीक्षा अप्रैल में होगी।

विशेषज्ञों के अनुसार जनवरी सेशन की परीक्षा पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए ताकि उसमें हुई गलतियों को ध्यान में रखते हुए आगे की रणनीति तैयार कर सकें। अविरल क्लासेज के निदेशक डीके मिश्रा के अनुसार जनवरी सेशन की परीक्षा में अब लगभग एक पखवाड़े का वक्त बचा है। ऐसे में अपनी तैयारी पुख्ता करने के लिए उन टॉपिक के बारे में जान लेना फायदेमंद होगा जिनमें सबसे ज्यादा या कम सवाल पूछे जाते हैं।

फिजिक्स : फिजिक्स में तीन सबसे महत्वपूर्ण विषय करंट इलेक्ट्रिसिटी, मॉडर्न फिजिक्स और इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड हैं। मॉडर्न फिजिक्स,रिजिड बॉडी डायनेमिक्स,इलेक्ट्रोस्टैटिक्स,इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स एंड कम्युनिकेशन और च्योमेट्रिकल ऑप्टिक्स जैसे विषयों से ठीक सवाल पूछे जाते हैं। प्रेक्टिकल पार्ट पर खास ध्यान देना होगा। इससे तकरीबन 20 प्रतिशत सवाल आते हैं।

केमिस्ट्री : केमिस्ट्री के टॉप तीन विषय कार्बोहाइड्रेट्स, ट्राजिशन एलिमेंट्स एंड कोऑर्डिनेशन केमिस्ट्री और पी-ब्लॉक हैं। अक्सर छात्र ऑर्गेनिक केमिस्ट्री के मुश्किल हिस्से को छोड़कर आसान टॉपिक पर ज्यादा ध्यान देते हैं। यह सही नहीं है। अगर पेपर में ज्यादा स्कोर करना है तो ऑर्गेनिक केमिस्ट्री के सारे विषयों की तैयारी अच्छे से करें। स्टोइकियोमेट्री,ट्राजिशन एलिमेंट्स एंड कोऑर्डिनेशन केमिस्ट्री,केमिकल बॉन्डिंग,थर्मोडायनेमिक्स एंड थर्मोकेमिस्ट्री,कार्बोहाइड्रेट्स, अमिनो एसिड एंड पॉलिमर आदि विषय अच्छे से तैयार कर लें।

गणित : गणित के तीन महत्वपूर्ण टॉपिक वेक्टर, मैट्रिस एंड डिटरमिनेंट्स और डेफिनेट इंटीग्रेशन हैं। बायनॉमियल थ्योरम, मैथेमैटिकल रीजनिंग और इंडेफिनेट इंटीग्रेशन से हर साल अच्छा वेटेज मिलता है। अभ्यर्थी इन टॉपिक पर भी विशेष ध्यान दें ये काफी स्कोरिंग हैं। एप्लीकेशन ऑफ डेरिवेटिव्स,सीक्वेंस एंड सीरीज,मैट्रिस एंड डिटरमिनेंट्स आदि पर भी ध्यान दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस