राज्य ब्यूरो, देहरादून। प्रदेश में निर्माणाधीन जलविद्युत परियोजनाओं का निर्माण तेजी से किया जाएगा। साथ ही बरसात के मौसम को देखते हुए जलविद्युत गृहों की मरम्मत का कार्य पूरा करना होगा। ऊर्जा सचिव राधिका झा ने इस संबंध में जलविद्युत निगम को निर्देश दिए हैं।

ऊर्जा सचिव राधिका झा ने बताया कि सभी विद्युत गृहों में बिजली उत्पादन का कार्य चल रहा है। बरसात के मौसम में पेश आने वाली दिक्कतों को देखते हुए निगम को सभी जलविद्युत गृहों में आवश्यक मरम्मत व अन्य कार्य कराने के निर्देश दिए गए हैं। निर्माणाधीन जलविद्युत परियोजनाओं को समय पर पूरा करने की हिदायत दी गई है ताकि राज्य की ऊर्जा की बढ़ती जरूरतों को पूरा किया जा सके। व्यासी परियोजना के साथ अन्य लघु जलविद्युत परियोजनाओं का निर्माण कार्य तेजी से पूरा करने को कहा गया है।

उन्होंने बताया कि कालीगंगा-दो और सरिनगाड-दो जलविद्युत परियोजनाओं को तेजी से शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है। जलविद्युत निगम को सभी जलविद्युत गृहों के अनुरक्षण का काम समय पर पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि बिजली के वार्षिक उत्पादन लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके। जलविद्युत गृहों की सभी मशीनों से अधिकतम बिजली उत्पादन हो, इस पर विशेष जोर दिया गया है।

यह भी पढ़ें-उत्तराखंड: रोडवेज कर्मियों के मसले पर आज नहीं होगी कैबिनेट, हाईकोर्ट में रखा जाएगा वेतन देने का रोडमैप

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi