देहरादून, जेएनएन। स्वाइन फ्लू की आहट को मद्देनजर रखते हुए श्री महंत इंदिरेश अस्पताल ने भी कमर कस ली है। अस्पताल में 12 बेड का एक वार्ड स्वाइन फ्लू मरीजों के लिए आरक्षित कर लिया गया है। पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के डॉ. जगदीश रावत को स्वाइन फ्लू का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। संदिग्ध मामलों की देखरेख व उपचार के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा विशेष गाइडलाइन जारी की गई है। यह जानकारी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनय राय ने शनिवार को अपने कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता में दी है। चार दिन पहले कौलागढ़ निवासी एक 52 वर्षीय व्यक्ति में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। ऐसे में इस बात की आशंका बनी हुई है कि आने वाले दिनों में स्वाइन फ्लू के और भी मामले सामने आ सकते हैं। चिकित्सकों का भी मानना है कि डेंगू के कहर के साथ स्वाइन फ्लू की दस्तक घातक साबित हो सकती है।

डेंगू के साथ स्वाइन फ्लू ज्यादा घातक

डेंगू के साथ स्वाइन फ्लू बेहद घातक साबित हो सकता है। महंत इंदिरेश अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनय राय ने बताया कि एसजीआरआर मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेज के अंतर्गत संचालित मॉलीक्यूलर लैब में स्वाइन फ्लू की जांच की जाती है। ऐसे मरीज जिनमें स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखाई दें वह अस्पताल में चिकित्सकों से संपर्क कर सकते हैं। विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा ऐसे मरीजों का ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए लैब में भेजा जायेगा। अन्य अस्पतालों से आने वाले सैंपलों की जांच भी लैब में की जायेगी। बताया कि अस्पताल द्वारा संचालित लैब नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) दिल्ली से अधिकृत है। 

यह भी पढ़ें: बेकाबू होती जा रही है डेंगू की बीमारी, मरीजों का आंकड़ा हुआ चार हजार पार

इसमें स्वाइन फ्लू (एच1एन1) सैंपलों की जांच/ परीक्षण की पूरी सुविधा उपलब्ध है। बताया कि लैब में छह से आठ घंटे में सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो जाती है। मॉलीक्यूलर लैब के प्रभारी डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि राज्य के सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों के मरीजों के सैंपलों की जांच भी इस लैब में की जाएगी। इसके लिए शुल्क निर्धारित किया गया है। कहा कि लैब के माध्यम से मरीज को जल्दी जांच रिपोर्ट मिलेगी। यदि किसी मरीज के सैंपल में स्वाइन फ्लू की पुष्टि होती है तो उसका उपचार जल्द शुरू हो पाएगा। क्योंकि कई मर्तबा लैब से रिपोर्ट देरी से मिलने के कारण मरीजों की जान पर बन आती है। बताया कि लैब में स्थापित अत्याधुनिक मशीन में एक बार में 100 सैंपल एक साथ स्वाइन फ्लू टेस्टिंग के लिए लगाए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: यहां सरकारी दफ्तरों में भी डेंगू की दहशत, व्यवस्थाएं प्रभावित; जानिए 

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप