देहरादून, दिनेश कुकरेती। 'राम-लखन', बॉलीवुड की एक ऐसी ब्लॉकबस्टर फिल्म है, जिसने पर्दे पर आते ही सफलता के झंडे गाड़ दिए थे। वैसे तो इस फिल्म से ढेरों किस्से जुड़े हुए हैं, लेकिन यहां हम आपको एक ऐसा किस्सा सुना रहे हैं, जिसके बारे में सिनेमा से जुड़े लोगों को भी शायद ही बहुत अधिक जानकारी हो। दरअसल, शूटिंग के दौरान ही इस फिल्म के नायक अनिल कपूर और खलनायक गुलशन ग्रोवर के बीच सचमुच में झगड़ा हो गया था। जिससे फिल्म की शूटिंग में काफी व्यवधान आया। 

किस्सा यूं है। फिल्म के एक सीन की शूटिंग चल रही थी, जिसमें अनिल कपूर और गुलशन ग्रोवर के बीच लड़ाई का दृश्य फिल्माया जाना था। इसी दौरान अनिल कपूर ने गलती से गुलशन ग्रोवर की आंख में पंच मार दिया। इसके बाद गुलशन ग्रोवर अनिल कपूर से बुरी तरह खफा हो गए और उनके घर तक में जाकर उन्हें जमकर खरी-खोटी सुनाई। इससे बात इतनी बिगड़ गई कि अनिल कपूर भी स्वयं पर नियंत्रण नहीं रख पाए और उन्होंने भी गुलशन ग्रोवर को खूब फटकारा। 

यह भी पढ़ें: जेएफएफ: समय की नब्ज पकड़ता नए दौर का सिनेमा, पढ़िए पूरी खबर

फिर तो अनिल कपूर और गुलशन ग्रोवर के बीच फासला इतना बढ़ गया कि दोनों ने एक-दूसरे से बात करना तक बंद कर दिया। इससे शूटिंग भी प्रभावित होने लगी। आखिरकार स्थिति की गंभीरता को देख फिल्म के निर्देशक सुभाष घई ने दोनों के बीच सुलह की काफी कोशिशें की, लेकिन सफलता नहीं मिली। ऐसे में अनिल कपूर के बड़े भाई और फिल्म निर्माता बोनी कपूर को दोनों के बीच आना पड़ा। उन्होंने जैसे-तैसे समझा-बुझाकर दोनों के बीच सुलह करवाई। तब जाकर 'राम-लखन' की शूटिंग पूरी हुई और बाद में फिल्म 'लोफर' में भी दोनों ने एक साथ काम किया। 

पहली बार गीत सीडी फॉर्मेट में आए फिल्मी गीत 

फिल्म 'राम लखन' से जुड़ा ही एक और किस्सा है। दरअसल, यह ऐसी पहली फिल्म थी, जिसके गीत ऑडियो के साथ सीडी फॉर्मेट में भी आए थे। फिल्म का एक गीत 'माय नेम इज लखन' तो तब जबर्दस्त हिट हुआ था। आज भी लोग इस गीत को गुनगुनाते मिल जाते हैं। 

यह भी पढेें: जागरण फिल्म फेस्टिवल का दून में भव्य आगाज, दर्शकों से रूबरू हुई दिव्या दत्ता

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप