देहरादून, राज्य ब्यूरो। एनएच-74 मुआवजा घपले में आरोपित रहे आइएएस चंद्रेश यादव को प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत दी है। सरकार ने उन्हें चेतावनी तो दी, लेकिन उनके खिलाफ अनुशासनिक कार्यवाही समाप्त कर दी। साथ ही 8700 ग्रेड वेतन में पदोन्नत करते हुए प्रभारी सचिव का रास्ता साफ कर दिया है।

राष्ट्रीय राजमार्ग-74 में बरेली-ऊधमसिंहनगर मार्ग के चौड़ीकरण को अधिग्रहीत भूमि के मुआवजे में घपला सामने आया था। इस घपले में ऊधमसिंहनगर जिले के तत्कालीन जिलाधिकारी चंद्रेश यादव भी जांच के घेरे में आए थे। भूमि अधिग्रहण संबंधी ऑर्बिट्रेशन वादों में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कृषि भूमि को अकृषि कर मुआवजा भुगतान में गड़बड़ी को लेकर उन्हें चार्जशीट दी गई थी।

 इस चार्जशीट का जवाब चंद्रेश दे चुके हैं। इस वजह से उनको पदोन्नत वेतन का लिफाफा भी बंद था। सरकार ने चंद्रेश कुमार यादव के जवाब का परीक्षण करने के बाद उन्हें क्लीन चिट दे दी है। राज्यपाल की मंजूरी के बाद उनके खिलाफ अनुशासनिक कार्यवाही समाप्त करते हुए अपर मुख्य सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी ने आदेश जारी किए हैं। 

अलबत्ता उन्हें भविष्य के प्रति सचेत जरूर किया गया है। इस आदेश के बाद उन्हें 8700 ग्रेड वेतन में पदोन्नत भी किया गया है। इससे चंद्रेश यादव के प्रभारी सचिव बनने का रास्ता साफ हो गया है।

यह भी पढ़ें: NH-74 भूमि घोटाला मामले में शासन से नहीं मिली अफसरों के खिलाफ अभियोजन की अनुमति

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस