देहरादून, जेएनएन।  दून में प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं, लेकिन आवक बढ़ने से दामों में कमी आने की उम्मीद जगी है। इंदौर से बेहतर गुणवत्ता का प्याज दून पहुंच रहा है। नासिक से प्याज की आपूर्ति शुरू हुई, तो दो हफ्ते के भीतर दाम नियंत्रण में आ सकते हैं।

देहरादून की मंडी में 298.90 कुंतल प्याज पहुंचा, जो डिमांड के अनुरूप ही था। इसमें दिल्ली, अलवर और इंदौर का प्याज शामिल है। बीते कुछ दिनों से इंदौर से प्याज न आ पाने के कारण लोगों को अच्छी गुणवत्ता का प्याज नहीं मिल पा रहा था। इसके चलते लोगों को कम गुणवत्ता वाला प्याज ही खरीदना पड़ रहा था। वह भी 80 से 100 रुपये प्रति किलो की दर से। 

इंदौर का प्याज भी 100 रुपये किलो बेचा जा रहा है, लेकिन इसकी आवक अभी भी सामान्य से कम है। मंडी समिति के निरीक्षक अजय डबराल के मुताबिक आने वाले दिनों में इंदौर से प्याज की आवक बढ़ जाएगी, जिसके बाद नासिक से भी कुछ मात्रा में प्याज दून आएगी। ऐसे में प्याज के दामों में गिरावट आ सकती है। हालांकि, मंडी में प्याज 75 से 80 रुपये प्रति किलो पहुंच गया। अब आवक बढ़ने से दाम कम होने के आसार हैं।

यह भी पढ़ें: मंडी में प्याज का पर्याप्त स्टॉक, दाम में फुटकर विक्रेता कर रहे मनमानी Dehradun News

नहीं भा रहा तुर्की एवं अफगानिस्तान का प्याज

डिमांड को देखते हुए दून में तुर्की और अफगानिस्तान से भी प्याज आ रहा है। हालांकि, गुणवत्ता के लिहाज से लोगों को यह प्याज नहीं भा रहा है। आकार में बड़ा होने के साथ ही यह प्याज स्वाद में निम्न गुणवत्ता का है। ऐसे में 80 से 90 रुपये प्रति किलो बिक रहे इस प्याज में लोग रुचि नहीं ले रहे हैं। इंदौर के साथ अलवर का प्याज भी डिमांड में है।

यह भी पढ़ें: तुर्की और अफगानिस्तान के प्याज से भी नहीं थमे आंसू, पढ़िए पूरी खबर

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस