देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: चीन सीमा से सटे देश के ऊंचे शिखरों में शुमार नंदादेवी में 53 साल से बर्फ में दबे प्लूटोनियम पैक को लेकर केंद्र सरकारें भले ही जवाब देने से बचती रही हों, लेकिन अब हॉलीवुड की नजर इस पर गई है। उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की ओर से यह मसला उठाए जाने के बाद हॉलीवुड इस पर फिल्म निर्माण की योजना बना रहा है। पर्यटन मंत्री महाराज के मुताबिक यदि फिल्म बनती है तो इसमें राज्य सरकार पूरा सहयोग देगी। साथ ही निर्माताओं से आग्रह किया जाएगा कि फिल्म में नंदादेवी की ही लोकेशन दिखाएं।

वर्ष 1965 में भारत को अमेरिका के सहयोग से नंदादेवी की चोटी पर राडार स्थापित करना था। राडार को संचालित करने जब प्लूटोनियम पैक ले जाया जा रहा था, तभी बर्फीला तूफान आ गया। हिमस्खलन में यह पैक नंदादेवी में बर्फ में कहीं दब गया। हालांकि, 1967 में दूसरा प्लूटोनियम पैक ले जाकर राडार स्थापित किया गया, लेकिन पहले वाला पैक अभी भी वहीं दफन है। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बीती दो अगस्त को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर इस तरफ उनका ध्यान आकृष्ट कराया। 

उन्होंने कहा कि प्लूटोनियम पैक रेडिएशन लीक कर सकता है। इस ग्लेशियर का पानी गंगा में मिलता है। ऐसे में गहन जांच कर यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि इससे कोई नुकसान नहीं होगा। इसे लेकर तस्वीर जो भी हो, साफ होनी चाहिए। तब से यह मसला एक बार फिर सुर्खियों में है। अब हॉलीवुड भी इसकी तरफ आकर्षित हुआ है। 

शुक्रवार को विधानसभा स्थित कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि हॉलीवुड नंदा देवी के प्लूटोनियम पैक की कहानी को लेकर फिल्म बनाने का इच्छुक है। उन्होंने कहा कि यदि फिल्म बनती है तो यह जागरूकता के साथ ही पर्यटन के लिहाज से भी महत्वपूर्ण होगी। कैबिनेट मंत्री महाराज ने कहा कि फिल्म निर्माताओं से आग्रह किया जाएगा कि वह इसमें नंदा देवी की लोकेशन को ही दिखाएं। इससे लोग जागरूक तो होंगे ही, नंदादेवी ग्लेशियर के बारे में पूरी जानकारी दुनिया में जाएगी, जिससे पर्यटन के दरवाजे भी खुलेंगे।

संवेदनहीन थी पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार 

कैबिनेट मंत्री महाराज ने कहा कि नंदादेवी में बर्फ में दबे प्लूटोनियम पैक को लेकर तस्वीर साफ होनी चाहिए, लेकिन पूर्ववर्ती कांग्रेसनीत सरकार इस पर संवेदनहीन बनी रही। तभी तो संसद में 377 के तहत दो बार मामला उठाने के बावजूद जानकारी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि अब केंद्र की भाजपानीत सरकार इस तरफ सजग हुई है और प्रधानमंत्री ने मसले की जांच कराने का भरोसा दिलाया है।

यह भी पढ़ें: चीन पर नजर रखने को 53 साल पहले की गई एक कोशिश आज गंगा के लिए बन सकती है खतरा

यह भी पढ़ें: 500 साल के अंतराल में दोबारा आ सकता है आठ रिक्टर स्केल का भूकंप