जागरण संवाददाता, ऋषिकेश :

दो सप्ताह पूर्व सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति ने ऋषिकेश एम्स में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। दो सप्ताह बाद भी आरोपित ट्रक चालक की गिरफ्तारी न होने से नाराज स्वजनों व स्थानीय लोगों ने शव के साथ श्यामपुर चौकी के बाहर ऋषिकेश-हरिद्वार हाईवे पर जाम लगा दिया। पुलिस ने 36 घंटे के भीतर आरोपित की गिरफ्तारी का आश्वासन देकर करीब तीन घंटे के बाद हाईवे से जाम खुलवाया।

जानकारी के मुताबिक बीती 30 अक्टूबर को श्यामपुर बाइपास मार्ग पर एक तेज रफ्तार ट्रक की चपेट में आकर बाइक सवार गीता नगर आइडीपीएल निवासी जगदीश सिल्सवाल (45 वर्ष) गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसके बाद जगदीश का उपचार एम्स ऋषिकेश में चल रहा था। सोमवार की सुबह जगदीश ने एम्स ऋषिकेश में दम तोड़ दिया। जगदीश की मौत की सूचना पाकर सोमवार सुबह ही स्थानीय पार्षद विजय बडोनी के साथ स्वजन श्यामपुर पुलिस चौकी पहुंचे। स्वजनों ने जब ट्रक चालक की गिरफ्तारी के संबंध में जानकारी मांगी तो पता चला कि अभी तक आरोपित चालक की गिरफ्तारी नहीं की जा सकी है। जिससे स्वजनों का गुस्सा भड़क गया। उनका कहना था कि दुर्घटना के बाद जगदीश के स्वजनों की ओर से पुलिस चौकी में तहरीर दी गयी थी। मगर, पुलिस ने आरोपित की गिरफ्तारी तो दूर छानबीन की जहमत भी नहीं उठाई। यही नहीं दुर्घटना का सीसीटीवी फुटेज भी परिजनों ने स्वयं पुलिस को उपलब्ध कराया। पुलिस ने किसी तरह समझा बुझा कर लोगों को वहां से भेज दिया था। मगर, सायं करीब चार बजे मृतक जगदीश का पार्थिव शरीर लेकर बड़ी संख्या में लोग श्यामपुर चौकी जा पहुंचे। लोगों ने शव के साथ ऋषिकेश-हरिद्वार हाईवे पर जाम लगा दिया। सूचना पाकर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह मौके पर पहुंचे। स्वजनों का कहना था कि मृतक जगदीश किसी तरह मजदूरी कर अपना परिवार पाल रहा था और अब उसके परिवार के समक्ष रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। उन्होंने मृतक के परिवार को मुआवजा देने की मांग की। इस बीच पुलिस ने संबंधित ट्रांसपोर्ट के संचालक को चौकी बुला दिया था। पता चला कि आरोपित चालक कानपुर का रहने वाला है। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ने परिजनों को आश्वासन दिया कि 36 घंटे के भीतर आरोपित की गिरफ्तारी कर ली जाएगी। जिसके बाद स्वजनों ने करीब तीन घंटे बाद जाम खोला और शव का अंतिम संस्कार किया। इस दौरान जिला पंचायत सदस्य संजीव चौहान, मुकेश तिवारी, संजय सिल्सवाल, विशंबर दत्त भट्ट, शोभा राम सिल्सवाल, हरि सिल्सवाल, प्रवेश कुमार, गुरविदर सिंह आदि शामिल थे।

पेंटर का काम करता था जगदीश

सड़क दुर्घटना में जान गंवाने वाला जगदीश पुताई का काम करता था। वह अपने परिवार के साथ गीता नगर आइडीपीएल में रहता था। स्वजनों ने बताया कि जगदीश के एक बेटी व एक बेटा है। जगदीश घर में अकेला कमाने वाला था। जगदीश की दुर्घटना में मौत के बाद परिवार के आगे रोजी का संकट खड़ा हो गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप