राज्य ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड में हेली सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए देहरादून में सात अक्टूबर को हेलीकाप्टर समिट का आयोजन किया जाएगा। इस समिट में उत्तराखंड में हवाई संपर्क बढ़ाने के साथ ही भारतीय हेलीकाप्टर उद्योग के सामने आ रही चुनौतियों और हेलीकाप्टर के उपयोग से अन्य उद्योगों को बढ़ावा देने के संबंध में भी चर्चा की जाएगी। समिट में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल होंगे। इस दिन उनके द्वारा देहरादून एयरपोर्ट की नई टर्मिनल बिल्डिंग का उद्घाटन भी प्रस्तावित है।

देश की आर्थिकी को बढ़ाने में हेलीकाप्टर क्षेत्र बड़ी भूमिका निभा रहा है। हेली सेवाओं के जरिये दूरस्थ क्षेत्रों में आवागमन सुगम हो रहा है। भारत में हेलीकाप्टर उद्योग पिछले कुछ सालों में तेजी से बढ़ा है। एक अनुमान के मुताबिक इस क्षेत्र में 75 फीसद का इजाफा दर्ज हुआ है। इसका एक कारण केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई क्षेत्रीय संपर्क योजना भी है। इससे हेलीकाप्टर सेवाओं में काफी इजाफा हुआ है। इसे देखते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय इस समय हेलीकाप्टर क्षेत्र को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रहा है। उत्तराखंड में हेलीकाप्टर सेवाओं में इजाफा करने की दिशा में कदम बढ़ाए जा रहे हैं। यहां हेलीसेवाओं के विस्तार की काफी संभावनाएं भी हैं। इसे देखते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, पवन हंस हेली कंपनी, फिक्की और राज्य सरकार के सहयोग से उत्तराखंड में हेलीकाप्टर समिट का आयोजन कर रहा है। इस समिट में हेलीकाप्टर उद्योग के सामने आ रही चुनौतियों पर चर्चा करने के साथ ही इसके समाधान के सुझाव भी रखे जाएंगे। इसमें क्षेत्रीय संपर्क योजना के तहत पर्वतीय इलाकों व ग्रामीण क्षेत्रों में हेली सेवाओं के विस्तार पर चर्चा की जाएगी। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों को हेली सेवाओं से जोड़ने के साथ ही इसमें हिमालयी राज्यों में हेलीकाप्टर बेस्ड इमरजेंसी मेडिकल सर्विस पर भी चर्चा होनी प्रस्तावित है।

सचिव नागरिक उड्डयन दिलीप जावलकर ने कहा कि उत्तराखंड में नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सहयोग से इस समिट का आयोजन किया जा रहा है। इसमें नागरिक उड्डयन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही हेली सेवाओं से जुड़ी कंपनियां भी हिस्सा लेंगी।

यह भी पढ़ें:-उत्‍तराखंड में पर्यटक ले सकेंगे रोपवे का आनंद, सात रोपवे बनाने के लिए केंद्र सरकार से किया एमओयू

Edited By: Sunil Negi