राज्य ब्यूरो, देहरादून। Haridwar Kumbh 2021 कोरोना संकट के साये में हरिद्वार में होने जा रहे कुंभ के आयोजन को लेकर तस्वीर साफ हो गई है। सरकार ने स्पष्ट किया है कि माघ पूर्णिमा पर 27 फरवरी से कुंभ मेले की शुरुआत होगी। इससे एक हफ्ते पहले 20 फरवरी के आसपास इस संबंध में अधिसूचना जारी की जाएगी। साथ ही अब यह भी साफ हो गया है कि कुंभ मेला की अवधि दो माह होगी। पहले यह अवधि 48 दिन रखने का प्रस्ताव था। 27 अपै्रल तक चलने वाले कुंभ के दौरान चार शाही स्नान होंगे।

हरिद्वार में कुंभ के दिव्य, भव्य आयोजन के हिसाब से सरकार तैयारियों में जुटी है, लेकिन कोरोना के मामलों ने पेशानी पर बल भी डाले हुए हैं। सरकार की सबसे बड़ी चिंता कुंभ में कोरोना संक्रमण की रोकथाम है। इस हिसाब से भी तैयारियां की जा रही हैं, मगर लाखों की तादाद में उमडऩे वाली श्रद्धालुओं की भीड़ के लिए कोरोना के दृष्टिगत व्यवस्थाएं जुटाना कोई आसान काम भी नहीं है। हरिद्वार में अमूमन कुंभ की अधिसूचना दिसंबर में होती थी और जनवरी से इसकी शुरुआत मानी जाती थी। इस मर्तबा बदली परिस्थितियों के मद्देनजर पूर्व में कुंभ मेले की अवधि 48 दिन करने का प्रस्ताव किया गया। साथ ही सरकार ने स्पष्ट किया था कि वह फरवरी आखिर में कुंभ की अधिसूचना जारी करेगी। अब जबकि कोरोना के मामलों में कमी आने के साथ ही कोविड वैक्सीनेशन शुरू हो गया है तो सरकार का मनोबल भी बढ़ा है। इसे देखते हुए कुंभ मेले की अवधि दो माह करने का निर्णय लिया गया है। सचिव शहरी विकास शैलेश बगौली ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि कुंभ मेला 27 फरवरी से शुरू होकर 27 अपै्रल तक चलेगा। 20 फरवरी के आसपास कुंभ मेले की अधिसूचना जारी की जाएगी।

सरकार के प्रवक्ता एवं शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का कहना है कि संतों के मार्गदर्शन में कुंभ के दिव्य-भव्य आयोजन को सरकार प्रतिबद्ध है। फरवरी के तीसरे हफ्ते की शुरुआत में कुंभ मेले की अधिसूचना जारी की जाएगी। कुंभ में चार शाही स्नान होंगे। कुंभ के मद्देनजर हरिद्वार में तैयारियां अंतिम चरण में हैं। स्थायी प्रकृति के अधिकांश कार्य हो चुके हैं। जो शेष हैं वे इस माह के आखिर तक हर हाल में पूर्ण करा लिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें-Haridwar Kumbh 2021: कुंभ में आने वालों को फ्लाईओवर पर दिखेगी उत्तरांखड संस्कृति की झलक

Edited By: Raksha Panthri