जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए टीकाकरण बेहद जरूरी है। हमारे मुस्लिम समाज के बंधु टीकाकरण को लेकर किसी तरह का कोई संशय ना रखें। सरकार इस मामले में अपना काम कर रही है। सामाजिक संगठनों और मीडिया को भी इस तरह के संशय को दूर करने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की जरूरत है।

रेलवे रोड स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए व्यापक टीकाकरण जरूरी है, क्योंकि मजबूत इम्यूनिटी इससे बढ़ती है। उन्होंने कहा कि आज भी मुस्लिम समाज के लोग टीकाकरण से बच रहे हैं। उनके भीतर इसे लेकर संकोच और संशय है जो दूर किया जाना जरूरी है।

उत्तराखंड में तीन जनपदों के लिए चार धाम यात्रा खोले जाने को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उन्होंने वैक्सिन की दो डोज लगाने वालों को यात्रा पर जाने की छूट देने की जो बात कही थी उसके पीछे वैज्ञानिक दृष्टिकोण है। इस मामले में शासन के प्रवक्ता का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि ऐसे लोग गलत तर्क दे रहे हैं। दो डोज लेने वाले कोरोना का कैरियर बन सकते हैं ऐसा इन लोग का तर्क था, जबकि इस मामले में जो भी बात कही जाए उसमें वैज्ञानिक आधार होना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के तीन जनपदों में टीकाकरण की दो डोज का 90 प्रतिशत लक्ष्य पूर्ण हो गया है, जिसने भी दो डोज ली है उन्हें चार धाम यात्रा पर जाने की अनुमति दी जानी चाहिए।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड जांच के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। सरकार ने इस मामले में आवश्यक कदम भी उठाए हैं। कोरोना संक्रमण जैसे संवेदनशील मामले में जांच को लेकर कोई कोताही नहीं होनी चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री ने गोविंद नगर स्थित डंपिंग जोन का निरीक्षण कर यहां कूड़ा निस्तारण के प्रोजेक्ट का भी निरीक्षण किया। यहां उन्होंने कोरोना संक्रमण से जान गंवाने वालों की स्मृति में पौधारोपण भी किया। उनके साथ नगर निगम महापौर अनीता ममगाईं, संगठन के जिला प्रभारी अनिल गोयल भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- टीकाकरण केंद्रों में पसरी अव्यवस्था, टीकाकरण का समय नौ बजे का; टीका लगा साढ़े नौ बजे

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri