राज्य ब्यूरो, देहरादून: ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण (भराड़ीसैंण) को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने लंबे समय बाद अपना रुख स्पष्ट किया है। उन्होंने इंटरनेट मीडिया में पोस्ट कर कहा कि कांग्रेस हमेशा भराड़ीसैंण के पक्ष में खड़ी है और आगे भी खड़ी रहेगी। अवसर मिलेगा तो गैरसैंण (भराड़ीसैंण) राज्य की राजधानी होगी। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत इन दिनों गढ़वाल क्षेत्र के भ्रमण पर हैं। रविवार को उन्होंने गैरसैंण में विधानसभा सत्र के आयोजन को लेकर ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि गैरसैंण में विधानसभा सत्र होगा या नहीं, भराड़ीसैंण विधानसभा बैठेगी या नहीं, कुछ स्पष्ट नहीं है। सरकार कभी हां, कभी न कर रही है। बहाने कुछ भी बनाए, सरकार भराड़ीसैंण में विधानसभा का सत्र नहीं करना चाहती हैं, क्योंकि सरकार को ठंड लग जाती है। ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने के दो साल बाद भी कोई अधिकारी-कर्मचारी यहां नहीं बैठ रहा। 25 हजार करोड़ के पैकेज की घोषणा की, वह कहीं धरातल पर नहीं है। यह भाजपा का दोहरा मापदंड है।

यह भी पढ़ें- हरिद्वार में भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी बोले, 20वीं कांग्रेस तो 21वीं सदी भाजपा की

नहीं हटाए जाएंगे अस्पतालों में तैनात संविदा कर्मी

प्रदेश के सरकारी अस्पताल और मेडिकल कालेज में आउटसोर्स से तैनात संविदा कर्मियों की सेवाएं अभी बहाल रखी जाएंगी। कोरोना संक्रमण के बढऩे की आशंका को देखते हुए सरकार ने यह निर्णय लिया है। प्रदेश के कई अस्पतालों में इस समय उपनल, पीआरडी और आउटसोर्स से कर्मचारियों की तैनाती की गई है। इस समय कई जगह इन कर्मचारियों को हटाने की शिकायत मिल रही थी। इन सबके बीच स्वास्थ्य मंत्री डा धन सिंह रावत ने कहा है कि सचिव स्वास्थ्य को निर्देश दिए गए हैं कि अस्पतालों में कोविड के समय रखे गए कर्मचारियों को नहीं हटाया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड के समय रखे गए कर्मचारियों को मार्च, 2022 तक के लिए रखा गया है। उसके बाद कोरोना संक्रमण व तात्कालिक जरूरतों के अनुसार कर्मचारियों के संबंध में फैसला लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी दून में जनसभा और 30 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात, सीएम ने परेड ग्राउंड का लिया जायजा

Edited By: Sumit Kumar