देहरादून, जेएनएन। वन विकास निगम में ऑडिट आपत्तियों के नाम पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए निगम कर्मियों ने आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है। प्रदर्शनकारी वन मंत्री हरक सिंह रावत के आवास पर ढोल और थाली बजाकर विरोध प्रकट करने पहुंच गए हैं। 

उत्तराखंड में कर्मचारी अपनी मांगों को मनवाने या उत्पीड़न का विरोध करने को लेकर समय-समय पर आंदोलन और हड़ताल का सहारा लेते हैं। इसीलिए काफी हद तक इसे हड़ताली प्रदेश भी कहा जाता है। सभी जिलों में भी हालात यही है। राजधानी देहरादून की बात करें तो यहां भी अक्सर धरना-प्रदर्शन और हड़ताल के मामले सामने आ ही जाते हैं। इसबार यहां वन विकास निगम के कर्मचारी मुखर हुए हैं। यही वजह है कि उनकी समस्त यूनियनों की ओर से वन विकास निगम कार्मिक संयुक्त मंच उत्तराखंड के बैनर तले स्थगित आंदोलन फिर से शुरू कर दिया गया है। 

यह भी पढ़ें: उक्रांद गुरुवार से रोडवेज के सभी डिपो पर करेगा धरना प्रदर्शन

मंच ने फैसला लिया है कि वन और पर्यावरण मंत्री के निवास यमुना कॉलोनी में थाली-ढोल बजाकर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इसके साथ ही वे जन-जागरण अभियान भी चलाएंगे। इस दौरान घनश्याम कश्यप, पूरन सिंह रावत, बीएस रावत, जीएस सोलंकी, टीएस बिष्ट, दिवाकर शाही समेत बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे। इससे पहले बुधवार को हुई बैठक में वन विकास निगम कार्मिक संयुक्त मंच उत्तराखंड ने इस प्रदर्शन को लेकर रूपरेखा तय कर ली थी। 

यह भी पढ़ें: ठेकेदार को क्लीनचिट देने पर पार्षदों ने उठाए सवाल, मिलीभगत का लगाया आरोप

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021