देहरादून, राज्य ब्यूरो। गुलदारों के लगातार आक्रामक होते व्यवहार पर नजर रखने की दिशा में वन महकमा गंभीर हुआ है। राज्य में पहली बार हरिद्वार में आबादी वाले क्षेत्र में आ धमके गुलदार (तेंदुए) को पकड़कर उसकी रेडियो कॉलरिंग की गई। राज्य के मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक जेएस सुहाग के अनुसार इस तरह के प्रयोग से गुलदारों के व्यवहार में अध्ययन में तो मदद मिलेगी ही, इनके आबादी के इर्द-गिर्द आने पर जनसामान्य को सचेत करने के मद्देनजर अर्ली वार्निंग सिस्टम भी विकसित हो सकेगा।

राजाजी टाइगर रिजर्व से लगे हरिद्वार क्षेत्र में लंबे समय से आबादी वाले इलाकों में गुलदारों की सक्रियता ने नींद उड़ाई हुई है। हाल में गुलदार ने वहां एक बच्चे को मार डाला था। इसके बाद हरिद्वार वन प्रभाग की ओर से वहां पिंजरा लगा दिया गया। इस बीच सोमवार देर शाम पिंजरे में एक गुलदार फंस गया। राज्य के मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक सुहाग बताते हैं कि इसके बाद गुलदार को रेडियो कॉलर लगाने का निर्णय लिया गया, ताकि इसके व्यवहार का अध्ययन किया जा सके। रात्रि में भारतीय वन्यजीव संस्थान के विशेषज्ञों के सहयोग से हरिद्वार के डीएफओ नीरज शर्मा की अगुआई में चिड़ि‍यापुर रेसक्यू सेंटर व हरिद्वार वन प्रभाग की टीम ने गुलदार को ट्रेंकुलाइज कर उसे रेडियो कॉलर पहनाया।

फिर उस पर नजर रखी गई और मंगलवार तड़के करीब 3.26 बजे गुलदार को घने जंगल में छोड़ा गया। उन्होंने सुरक्षा समेत अन्य कारणों को देखते हुए गुलदार के पकड़े जाने और छोड़े जाने के स्थान का ब्योरा नहीं दिया। मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक के अनुसार यह पहली बार है जब राज्य में वन विभाग ने किसी गुलदार के व्यवहार के अध्ययन के मद्देनजर उस पर रेडियो कॉलर लगाया है। गुलदार पर सेटेलाइट आधारित रेडियो कॉलर लगाया गया है। इससे हर एक घंटे में उसकी लोकेशन मिल रही है। उन्होंने बताया कि जर्मन फंडिंग एजेंसी जीआइजेड की ओर से उपलब्ध कराया गया यह रेडियो कॉलर कई विशेषताओं वाला है। इससे गुलदार की लोकेशन की सटीक जानकारी तो मिल ही रही है, यदि यह लगा कि गुलदार असहज महसूस कर रहा है तो उसे हरिद्वार से ही खोला जा सकता है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में गुलदारों का खौफ, रेडियो कॉलर लगाने को केंद्र से मांगी इजाजत; पांच साल के आंकड़ों पर डालें नजर

केंद्र से हरी झंडी का इंतजार

सुहाग बताते हैं कि गुलदार-मानव वन्यजीव संघर्ष को थामने के मद्देनजर गुलदारों के व्यवहार के अध्ययन के लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान को पहले ही राजाजी टाइगर रिजर्व और इससे सटे हरिद्वार व देहरादून वन प्रभागों के मध्य 15 गुलदारों पर रेडियो कॉलर लगाने को सैद्धांतिक मंजूरी दी जा चुकी है। रेडियो कॉलर लगाने के लिए संस्थान की ओर से केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति मांगी गई है। इसका इंतजार किया जा रहा है। अनुमति मिलते ही इन पर भी रेडियो कॉलर लगाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें: चमोली में आदमखोर गुलदार हुआ ढेर, ग्रामीणों ने ली राहत की सांस

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस