ऋषिकेश, [जेएनएन]: उत्तराखंड में पांचवें धाम के रूप में पहचान रखने वाले श्री हेमकुंड साहिब के लिए यात्रियों का पहला जत्था मंगलवार को तीर्थनगरी ऋषिकेश से रवाना हुआ। बता दें कि हेमकुंड साहिब के कपाट 25 मई को खुलने हैं। इनदिनों सेना और गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट के स्वयं सेवक घांघरिया से आगे का बर्फ से ढका मार्ग खोलने में जुटे हुए हैं। यहां काम अंतिम चरण में है।

लक्ष्मणझूला मार्ग स्थित गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब से केंद्रीय राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने पांच सौ यात्रियों के जत्थे को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने सुखद व मंगलमय यात्रा की कामना करते हुए गुरुद्वारे में मत्था भी टेका और गुरुवाणी का श्रवण किया। केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में चारधाम के साथ श्री हेमकुंड साहिब पांचवें धाम के रूप में देश-दुनिया में पहचान रखता है। कहा कि हेमकुंड साहिब में रोपवे और रेस्क्यू हेलीपैड की जरूरत है, इसके लिए वह केंद्र व राज्य सरकार से बात करेंगे। कहा कि सेवा का दूसरा नाम सिख समाज है। यह समाज सीरिया जैसी जगह में सेवा कर सकता है। 

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि सरकार यात्रियों की सुविधा के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज ने यात्रियों से तीर्थस्थलों को प्रदूषणमुक्त और हरित बनाए रखने की अपील की। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि यात्रा मार्गों और धामों में यात्रियों के लिए बेहतर प्रबंध किये गए हैं। गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट के उपाध्यक्ष नरेंद्र जीत सिंह बिंद्रा ने बताया कि 25 मई से शुरू होने वाली यात्रा की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया गया है। इस अवसर पर गुरुद्वारा मैनेजमेंट ट्रस्ट के प्रबंधक दर्शन सिंह, विधायक पुष्कर सिंह धामी भी उपस्थित थे। 

यह भी पढ़ें: केदारनाथ की 17 भाषाओं में चाहिए जानकारी तो डाउनलोड करें यह एप

यह भी पढ़ें: केदारनाथ में प्रसाद की थाली में चौलाई का लड्डू अनिवार्य : डीएम

यह भी पढ़ें: केदारनाथ के पौराणिक स्वरूप से हो रही छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं: तीर्थपुरोहित 

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप