संवाद सहयोगी, मंगलौर: कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी महिला ने पति और उसके दोस्त पर दुष्कर्म करने और गांव छोड़कर जाने का दबाव बनाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़ि‍ता का आरोप है कि आरोपितों ने उसे धमकी दी है यदि गांव नहीं छोड़ा तो उसके तीनों बच्चों की हत्या कर दी जाएगी।  मंगलौर कोतवाली क्षेत्र की एक महिला ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि करीब दो वर्ष पूर्व उसके पति की मृत्यु हो चुकी है। उसके तीन बच्चे हैं। 2020 में कोरोना के दौरान गांव के ही आरिफ का उसके घर आना जाना शुरू हो गया। इसके बाद आरिफ ने उसे शादी का झांसा देकर उसके साथ रिवाल्वर दिखाकर दुष्कर्म किया।

विरोध करने पर आरोपित आरिफ ने उसके हाथ पैर बांधकर उसके साथ अप्राकृतिक संबंध बनाए। यही नहीं उसके गर्भवती होने पर उसकी वीडियो वायरल करने की धमकी देते हुए उसका गर्भपात भी कराया। इसी साल 2 जुलाई को कचहरी में ले जाकर उससे कई कोरे कागजों पर साइन भी कराए गए। आरोप है कि जब उसने इस संबंध में पुलिस को सूचना दी तब पुलिस के डर से आरिफ ने 11 जुलाई को निकाह कर लिया। इसके बाद आरिफ और उसका भाई इस्तयाक के अलावा इस्तयाक के दोस्त अफरोज ने उस पर धंधा करने का भी दबाव बनाया। आरोप है कि 25 सितंबर की रात को इस्तियाक ने अफरोज को घर बुलाकर पीडि़ता के साथ दुष्कर्म कराया।

यह भी पढ़ें- दोस्त को कार देना एक युवक को पड़ा महंगा, अब नहीं लौटा रहा कार; डीआइजी और एसएसपी से की शिकायत

आरोप है कि पीडि़ता के घर में रखे 4 लाख रुपये और सोने चांदी के जेवर भी तीनों आरोपित उठाकर ले गए। दो अक्टूबर की सुबह जब वह अपनी दुकान पर बैठी थी तब वहां पर आसिफ आया और उसने उसे तीन तलाक देते हुए उसकी दुकान में रखे 25 हजार रुपये भी उठा ले गया।  पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने पर पीडि़ता द्वारा कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया गया। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमर चंद शर्मा ने बताया कि महिला की तहरीर पर कोर्ट के आदेशों का पालन करते हुए आरिफ इश्तियाक और अफरोज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें-साइबर ठगों ने सात व्यक्ति के उड़ाए करीब आठ लाख रुपये, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा