जागरण संवादाता, देहादून:  उत्तराखंड में आर्थिक अपराध से जुड़ी शिकायतों की जांच अब स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की आर्थिक अपराध शाखा करेगी। प्रदेश में बढ़ते आर्थिक अपराध को देखते हुए पुलिस मुख्यालय ने ऐसे मामलों की त्वरित जांच के लिए इस इकाई का गठन किया है। गुरुवार को दून के गांधी रोड स्थित साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन में इस शाखा ने विधिवत काम शुरू भी कर दिया। 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि प्रदेश में साइबर अपराध की तरह आर्थिक अपराध के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैैं। मैदान के साथ पहाड़ी क्षेत्रों में भी इसकी जड़ें फैलती जा रही हैैं। जालसाज फर्जी कंपनियां बनाकर भोले-भाले व्यक्तियों को सावधि जमा और आवर्ती जमा में अधिक ब्याज का लालच देकर ठग रहे हैैं। इन मामलों में मुकदमे तो दर्ज होते हैैं, लेकिन कई दफा आरोपित के बाहरी राज्य का होने के कारण पुलिस को उसकी धरपकड़ में खासी मुश्किलें पेश आती हैैं। इसी को ध्यान में रखते हुए पुलिस मुख्यालय को ऐसे मामलों की जांच के लिए अलग इकाई गठित करने का प्रस्ताव भेजा गया था। 

इन मामलों की करेगी जांच

एसएसपी ने बताया कि आर्थिक अपराध शाखा फाइनेंशियल फ्रॉड करने वाली कंपनियों, सोसायटी, गैर अधिकृत कंपनियों, किटी, कमेटी, अधिक ब्याज का लालच देकर आमजन से की जाने वाली धोखाधड़ी से संबंधित शिकायतों की जांच करेगी। 

यह भी पढ़ें- इंटरनेट मीडिया पर छाया दून के शिवम का यह गाना, मिले 20 लाख से ज्‍यादा व्‍यूज

दो निरीक्षक व पांच आरक्षी तैनात

एसएसपी ने बताया कि अभी शाखा में दो निरीक्षक और पांच आरक्षी तैनात किए गए हैैं। इस शाखा के लिए साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन के नवनिर्मित दूसरे तल में एक कांफ्रेंस हॉल और तीन कक्ष तैयार किए गए हैैं। 

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार का कहना है किप्रदेश में बढ़ते आर्थिक अपराध को देखते हुए आर्थिक अपराध शाखा खोली गई है। यह शाखा सिर्फ आर्थिक अपराध से जुड़ी शिकायतों का ही निस्तारण करेगी। जरूरत पड़ी तो शाखा में और पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। 

 यह भी पढ़ें- उत्तराखंड से बाहर नहीं होगी ऑक्सीजन की आपूर्ति, इसलिए लिया गया है फैसला

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें