जागरण संवाददाता, देहरादून। फाइटर पायलट अभिनव चौधरी की शहादत से राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कॉलेज (आरआइएमसी) भी शोक में डूबा हुआ है। गुरुवार देर रात पंजाब के मोगा में मिग-21 क्रैश होने से पायलट अभिनव चौधरी शहीद हो गए थे। अभिनव को याद करते हुए आरआइएमसी प्रशासन ने बताया कि अभिनव एक बेहतरीन खिलाड़ी थे, वाद-विवाद में भी उनका कोई जवाब नहीं था। वह अकादमी के अव्वल छात्रों में शामिल थे। अपने पूर्व छात्र की शहादत गमगीन शिक्षकों ने अभिनव को भावविभोर होकर श्रद्धांजलि दी। 

आरआइएमसी प्रशासन के अनुसार साल 2005-06 में आठवीं कक्षा में अभिनव चौधरी ने जब कॉलेज में दाखिला लिया था, तब वह अन्य सभी छात्रों की तरह ही चुपचाप रहने वालों में शामिल थे। लेकिन, मेहनत और लगन के बूते उन्होंने बहुत जल्द आरआइएमसी की कठिन ट्रेनिंग को अपने जीवन में उतार लिया।

उन्होंने कैंपस में होने वाले सभी खेलों में बढ़-चढ़कर प्रतिभाग करना शुरू किया। वह भाषण और वाद-विवाद प्रतियोगिता में हमेशा प्रतिभाग करते थे। उनकी इसी खूबी ने उन्हें जल्द सब कुछ सीखने और अपने व्यक्तित्व का विकास करने में मदद की। देखते ही देखते उन्होंने कॉलेज में अपनी अलग पहचान बना ली। इन सबके अलावा पढ़ाई में भी वह कोई कसर नहीं छोड़ते थे।

2010 में आरआइएमसी से पासआउट होने के साथ ही उनका एनडीए में भी चयन हो गया था। इसके बाद उन्होंने पायलट बनकर आरआइएमसी के साथ अपने परिवार और देश का मान बढ़ाया। आरआइएमसी प्रशासन ने अभिनव चौधरी के निधन पर गहरा शोक जताते हुए उनके परिवार के साथ संवेदना व्यक्त की। 

यह भी पढ़ें-नहीं रहे प्रख्यात लोक कलाकार रामरतन काला, संस्कृति प्रेमियों ने जताया शोक

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi