देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति के तमाम निर्देशों के बावजूद निजी पैरामेडिकल संस्थान अपने पाठ्यक्रमों का शुल्क तय कराने को तैयार नहीं हो रहे हैं। इससे खफा समिति ने दो पाठ्यक्रमों पोस्ट बीएससी नर्सिंग व एमएससी नर्सिंग पाठ्यक्रमों के लिए तीन वर्षों के लिए अंतरिम शुल्क तय कर दिया है। राज्य कोटे के लिए पोस्ट बेसिक नर्सिंग का सालाना शुल्क 61,600 रुपये और एमएससी नर्सिंग का शुल्क 70 हजार रुपये तय किया गया है। अब उक्त शुल्क से ज्यादा शुल्क लेना निजी संस्थानों को भारी पड़ेगा। उन्हें ज्यादा शुल्क लेने के लिए समिति के दर पर दस्तक देनी होगी अथवा उन पर कार्रवाई की तलवार लटक जाएगी। 

राज्य के निजी पैरामेडिकल संस्थानों की मनमानी पर अंकुश लगाते हुए समिति ने बीते सितंबर माह में हुई बैठक में डिप्लोमा, डिग्री समेत विभिन्न पाठ्यक्रमों का शुल्क तय किया था। इस कड़ी में मंगलवार को बीजापुर स्थित राज्य अतिथिगृह में आयोजित बैठक में नर्सिंग कॉलेजों के दो पाठ्यक्रमों का शुल्क तय कर दिया गया। यह शुल्क तीन वर्षों 2017-18, 2018-19, 2019-20 के लिए तय किया गया है। समिति ने पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग और एमएससी नर्सिंग पाठ्यक्रमों का शुल्क पहली बार तय किया है। पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग तकरीबन 15 निजी संस्थानों और एमएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम करीब पांच निजी संस्थानों में संचालित किए जा रहे हैं। दरअसल, समिति के निर्देशों को ताक पर रखकर निजी संस्थान पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों का शुल्क तय कराने से कन्नी काट रहे हैं। 

निजी पैरामेडिकल संस्थान शुल्क के मामले में सेवानिवृत्त न्यायाधीश गुरमीत राम की अध्यक्षता में गठित प्रवेश एवं शुल्क समिति के बार-बार निर्देशों का उल्लंघन कर रहे हैं। समिति की ओर से नोटिस जारी कर उक्त संस्थानों को शुल्क तय कराने के निर्देश दिए थे। समिति के सदस्य सचिव व अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा डॉ रणबीर सिंह ने उक्त शुल्क तय करने की पुष्टि की। बैठक में चिकित्सा शिक्षा निदेशक डॉ आशुतोष सयाना, नोडल अधिकारी डॉ अंजू अग्रवाल, शिक्षाविद प्रो अरुण कुमार बहुगुणा, प्रो जगत सिंह बिष्ट व चार्टर्ड अकाउंटेंट सुदर्शन शर्मा मौजूद रहे। 

यूं तय किया गया अंतरिम शुल्क

पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग

राज्य कोटा-61,600 रुपये 

प्रबंधकीय कोटा-72,600 रुपये 

एमएससी नर्सिंग 

राज्य कोटा-70,000 रुपये 

प्रबंधकीय कोटा-75,000 रुपये 

यह भी पढ़े: अब यूएपीएमटी में जीरो नंबर पर भी मिलेगा दाखिला

यह भी पढ़ें: विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षित शिक्षकों की डीएलएड को ना   

Posted By: raksha.panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस