डोईवाला (देहरादून), जेएनएन। देहरादून के डोईवाला विकासखंड के अंतर्गत माजरी ग्रांट ग्राम सभा का कृषि के क्षेत्र में आदर्श गांव के रूप में चयन किया गया है। मंगलवार को प्रदेश के कृषि सचिव हरवंश सिंह चुग ने गांव का दौरा कर किसानों को समूह बनाकर खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने किसानों से कृषि के क्षेत्र में सुझाव भी लिए।

माजरी ग्रांट ग्राम सभा में ग्राम प्रधान अनिल पाल की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कृषि सचिव हरबंस सिंह चूग ने कहा कि किसान समूह फेडरेशन बनाकर सामूहिक खेती करें। जिसमें उन्होंने किसानों को बासमती की खेती, पशुपालन, रेशम उद्योग, मत्स्य पालन, मुर्गी पालन, गाय व मौन पालन पर ध्यान केंद्रित कर आर्थिक लाभ उठाने की बात कही। उन्होंने कहा कि पहले बासमती का उत्पादन होता था। लेकिन अब धीरे धीरे बासमती का उत्पादन कम होता जा रहा है। इसको बढ़ाए जाने की जरूरत है। किसानों को जैविक खेती में सब्जी, फल आदि की खेती करनी चाहिए। किसानों को पहले से ही कृषि उपकरणों में सब्सिडी दी जा रही है। लेकिन सामूहिक रूप से खेती करने पर और ज्यादा सुविधाएं दी जाएंगी। नाबार्ड के सीजेएम ज्ञानेंद्र मणि व जीएम भास्करानंद ने नाबार्ड द्वारा किसानों के हितों के लिए संचालित योजनाओं की जानकारी दी। 

मशरूम अधिकारी संजय कमल, मुख्य पशुपालन अधिकारी डॉ एसबी पांडे, मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवरानी, कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी अभिलाषा भट्ट, मुख्य उद्यान अधिकारी मीनाक्षी जोशी, मत्स्य अधिकारी विनोद यादव, सहायक अभियंता बीके तिवारी, सहायक निदेशक रेशम विभाग नरेश कुमार व खंड विकास अधिकारी बीएस नेगी ने भी विभागीय स्तर से संचालित योजनाओं की जानकारी दी।

इस मौके पर सहायक कृषि अधिकारी वाचस्पति भट्ट, रेशम विभाग के निरीक्षक रमेश धनाई, सहायक गन्ना आयुक्त हिमानी पाठक, ग्राम प्रधान अनिल पाल, गुरजीत सिंह, फूल सिंह, गुरदीप सिंह, जसवंत सिंह, शेर सिंह, दयाराम, कुंवर सिंह, सुखविंदर सिंह, खेम सिंह, स्वतंत्र बिष्ट, यशपाल सिंह, अजीत सिंह रामचंद्र आदि किसान, जनप्रतिनिधि व ग्रामीण भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: सहभागिता की मिसाल पेश कर रही हैं यहां की महिलाएं, जानिए इनके स्वावलंबी बनने की कहानी

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस