देहरादून, जेएनएन। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए मंडी समिति भी गंभीरता बरत रही है। मंडी में फल-सब्जी खरीदने आ रहे ग्राहकों को सेनिटाइजर से हाथ साफ करने के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। साथ ही मास्क प्रदान कर कोरोना से बचने को जागरूक किया जा रहा है।

मंडी समिति के अध्यक्ष राजेश शर्मा के निर्देश पर मंडी परिसर में कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। मंडी में प्रवेश द्वार पर खड़े सुरक्षा कर्मी खरीदारी को पहुंच रहे लोगों को पहले सेनिटाइजर से हाथ साफ करवा रहे हैं। इसके अलावा परिसर में सभी को मास्क भी वितरित किए जा रहे हैं। 

मंडी सचिव विजय थपलियाल ने बताया कि कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। मंडी परिसर में नियमित सफाई कराने के साथ ही रासायनिक तरल का छिड़काव कराया जा रहा है।

मंडी सचिव के नेतृत्व में किया निरीक्षण

जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में मंडी समिति की ओर से फल-सब्जी विक्रेताओं की निगरानी की जा रही है। मंडी सचिव के नेतृत्व में सब्जी की दुकानों और ठेलियों का निरीक्षण किया गया। इस दौरान सभी जगह स्थिति सामान्य पाई गई। 

सचिव ने बताया कि सभी विक्रेताओं को सख्त हिदायत दी कि किसी भी प्रकार की अफवाह न फैलाएं। साथ ही मुनाफाखोरी न करें। ऐसा करते पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। निरीक्षण में मंडी पर्यवेक्षक, प्रदीप शर्मा, निरीक्षक अजय डबराल आदि भी शामिल थे।

कहीं सेनिटाइजर तो कहीं साबुन से चल रहा काम

देहरादून के बड़े होटलों में तो ग्राहकों के लिए सेनिटाइजर की व्यवस्था है। वहीं, छोटे होटल व ढाबों में साधारण साबुन से ही काम चलाया जा रहा है। धर्मशालाओं के कार्यालयों में भी सेनिटाइजर रखा हुआ है। आने वाले लोगों के हाथ सेनिटाइज कराये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: CoronaVirus: कोरोना को लेकर सोशल मीडिया में अफवाहों का दौर, इससे निपटने को सक्रिय हुआ प्रशासन

सरकार ने होटल, रेस्टोरेंट व धर्मशालाओं में ग्राहकों को सेनिटाइजर उपलब्ध कराने के सख्त निर्देश दिए हुए है। जिसका ख्याल कुछ होटल व रेस्टोरेंट के संचालक तो रख रहे हैं, लेकिन कुछ होटलों व ढाबों में हाथ धुलने के लिए साधारण साबुन का ही प्रयोग चलन में है। यहां तक कि कुछ रेस्तरां संचालकों को तो सेनेटाइजर रखना है इसकी जानकारी तक नहीं है। हालांकि शहर के ज्यादातर बड़े होटल व रेस्टोरेंट में रिसेप्शन पर ही सेनिटाइजर की व्यवस्था है। धर्मशालाओं में फिनाइल का पोछा लगाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: CoronaVirus: ईपीएफओ ने भी कोरोना पर जारी की एडवाइजरी, ऑनलाइन दर्ज करें शिकायतें