देहरादून, जेएनएन। उत्तराखंड में इन दिनों मौसम की मार पड़ रही है। बारिश और बर्फबारी ने पहाड़ों में दुश्वारियां बढ़ा दी हैं। एक सप्ताह से अधिक समय से पहाड़ों में जन जीवन पटरी पर नहीं लौट पा रहा है। भारी बर्फबारी के कारण उत्तरकाशी में करीब 60 गांव, जबकि देहरादून के जौनसार-बावर क्षेत्र के लगभग 30 गांव सड़क मार्ग से कटे हुए हैं। इसके अलावा पौड़ी में 15, चमोली में 30, रुद्रप्रयाग 22, टिहरी में करीब 20 गांव अलग-थलग पड़े हैं। यातायात मार्गों से कटे इन गांवों में बिजली-पानी के साथ ही संचार सेवाएं ही बाधित हैं। गढ़वाल मंडल के अधिकांश जिलों में स्थिति कमोबेश ऐसी ही है। ऊपर से मौसम के मिजाज में सुधार नहीं हो रहा है। हल्की धूप खिलने के बाद बादल फिर आसमान में डेरा डाल रहे हैं। जनवरी की शुरुआत से ही प्रदेश में मौसम की तल्ख मिजाजी बनी हुई है। पहाड़ों में भारी बर्फबारी के कारण लगातार दिक्कतें बनी हुई हैं। जबकि, मौसम अभी भी राहत नहीं दे रहा है।

दून में बारिश ने बढ़ाई ठिठुरन

शुक्रवार को दून में तड़के रिमझिम बारिश लगी रही। दिन में कभी धूप तो कभी बादल और बूंदाबांदी का दौर रहा। बारिश के चलते दून के अधिकतम तापमान में भी गिरावट आ गई। जिससे ठंड में इजाफा हो गया। शनिवार को भी बारिश और ओलावृष्टि की संभावना बनी हुई है। 

धनोल्टी-सुरकंडा ने ओढ़ी सफेद चादर, मसूरी में बढ़ी ठंड

धनोल्टी, बुरांशखंडा व सुरकंडा में भारी हिमपात हो गया है। जबकि मसूरी में लगातार बारिश जारी है और बर्फबारी की संभावना बनी हुई है। इसे देखते हुए बड़ी संख्या में पर्यटक उमडऩे लगे हैं। हालांकि बुरांशखंडा और धनोल्टी के बीच कई स्थानों पर हिमपात के कारण आवाजाही भी ठप हो गई है। फिलहाल कहीं भी पर्यटकों के फंसने की सूचना नहीं है।

शुक्रवार को भी धनोल्टी और आसपास की पहाडिय़ों पर पूरे दिन रुक-रुककर हिमपात होता रहा। जिससे पहाडिय़ों ने बर्फ की मोटी चादर ओढ़ ली है। वहीं, मसूरी में रिमझिम बारिश जारी रही, जिससे तापमान में भारी गिरावट आने से कड़ाके की ठंड पड़ गई है। शाम के समय मसूरी में बारिश के साथ में ओलावृष्टि भी हुई। मसूरी के लालाटिब्बा, जबरखेत व बाटाघाट और मसराना इलाके में गुरुवार रात को हल्का हिमपात हुआ था। मसूरी में पर्यटकों की संख्या बढ़ गई है और पर्यटक बर्फबारी का लुत्फ लेने धनोल्टी, बुरांशखंडा व कददूखाल का रुख कर रहे हैं। स्थानीय व्यवसायियों के चेहरे भी खिले हुए हैं। पर्यटकों की चहल-पहल बढऩे से बाजार गुलजार हैं। पुलिस और आइटीबीपी के जवान भी मुस्तैद हो गए हैं। बुरांशखंड और कद्दूखाल के अलावा अन्य स्थानों पर भी बर्फबारी की स्थित देखकर ही आवाजाही करवा रहे हैं। साथ ही बर्फबारी से खतरनाक बन चुके स्थानों पर यातायात बंद कर दिया गया है। 

प्रभावितों को चेक व कंबल बांटे

13 जनवरी को बुरांशखंडा में आंधी से हुए नुकसान से प्रभावितों को शासन की ओर से मुआवजा दिया गया। विधायक गणेश जोशी ने प्रभावितों को मुआवजे का चेक वितरित किए। वहीं उन्होंने प्रत्येक परिवार को चार-चार कंबल भी बांटे।

शुक्रवार को बुरांशखंडा पहुंचे विधायक जोशी ने प्रशासन की ओर से प्रभावित परिवार को सात-सात हजार रुपये के चैक बतौर मुआवजा प्रदान किए। उन्होंने कहा कि आंधी से कई मकानों की छतें उड़ कर क्षतिग्रस्त हो गई थीं। उन्होंने कहा कि जिन परिवारों को ज्यादा नुकसान हुआ है, उनको अन्य संसाधनों से सहायता प्रदान की जाएगी। धनोल्टी-बुरांशखंडा में पर्यटकों के  साथ ही स्थानीय लोगों को हिमपात से परेशानियां न हो, इसके लिए सड़कों से बर्फ हटाने के लिए चार जेसीबी लगाई गई हैं। इस दौरान भाजपा मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, महामंत्री कुशाल राणा, जिला पंचायत उपाध्यक्ष दीपक पुंडीर, जिला पंचायत सदस्य बीर सिंह चौहान, चमासारी के ग्रामप्रधान नरेंद्र मेलवाल, अनुज कौशल, अमित भट्ट, ग्राम प्रधान बुरांशखंडा सुमित्रा देवी, संजय नौटियाल, राजपाल मेलवान आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Weather: उत्तराखंड के पहाड़ बर्फ से लकदक, मैदानों में हुई बारिश

गढ़वाल मंडल में यह है वर्तमान स्थिति

  • समस्या, उत्तरकाशी, चमोली, टिहरी, पौड़ी, देहरादून, रुद्रप्रयाग
  • बर्फबारी से मार्ग बंद, 15, 06, 02, 00, 04, 07
  • संचार सेवा बाधित, 150, 20, 100, 12, 20, 30
  • बिजली आपूर्ति बाधित, 50, 05, 40, 30, 10, 20
  • पेयजल आपूर्ति बाधित, 60, 08, 12, 23, 06, 20

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Weather: केदारनाथ समेत ऊंची चोटियों हिमपात, अभी मौसम का मिजाज रहेगा तल्ख

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस