जागरण संवाददाता, विकासनगर: उपजिलाधिकारी विकासनगर सौरभ असवाल ने शुक्रवार को गंगभेवा बावड़ी क्षेत्र में ग्राम समाज की भूमि से अवैध पक्के निर्माण को ध्वस्त करा दिया। जब बुलडोजर मौके पर पहुंचा तो अवैध निर्माण करने वालों ने विरोध किया, लेकिन पुलिस की मौजूदगी होने के चलते विरोध ज्यादा देर नहीं टिक सका और जैसे ही बुलडोजर गरजा, अवैध निर्माण जमींदोज हो गया।

गंगभेवा बावड़ी क्षेत्र में ढकरानी पंचायत की ग्राम समाज की भूमि है, जिस पर पहले शेड डालकर अवैध कब्जा शुरू किया गया, बाद में चहारदीवारी कर काफी पुराने पिलखन के पेड़ को भी घेर लिया गया, देखते ही देखते ग्राम समाज की भूमि पर पक्का निर्माण कर दिया गया। इसकी जानकारी जब उप जिलाधिकारी सौरभ असवाल को मिली तो उन्होंने इसकी जांच कराई और अवैध निर्माण पुष्ट होने पर शुक्रवार को तहसील और पुलिस प्रशासन बुलडोजर लेकर मौके पर पहुंचा। अवैध निर्माण करने वालों ने टीम का विरोध किया, लेकिन पुलिस के कारण विरोध ज्यादा देर नहीं चल सका। प्रशासन ने अवैध पक्के निर्माण पर बुलडोजर से कुछ देर में ही पक्के निर्माण को ध्वस्त कर दिया। एसडीएम ने चेताया कि यदि किसी ने ग्राम समाज या सरकारी भूमि पर अवैध कब्जा किया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान कानूनगो जय सिंह सैनी, पटवारी शोभाराम, प्रधान के पति अनिल, एसएसआइ कुलवंत सिंह, दारोगा रतन बिष्ट आदि मौजूद रहे।

--------------------

आरोपितों के विरूद्ध नामजद रिपोर्ट कराए निगम

विकासनगर: ह्युमन राइट एंड आरटीआइ एसोसिएशन ने जल विद्युत निगम पर अतिक्रमणकारियों को बचाने का आरोप लगाया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष अरविद शर्मा ने जल विद्युत निगम के महाप्रबंधक को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि डाकपत्थर रोड स्थित निगम की मिट्टी की ढांग को काटकर रास्ता बनाने का प्रयास कर रहे एक प्रापर्टी डीलर के विरूद्ध नामजद रिपोर्ट दर्ज कराने के बजाए निगम के अधिकारियों ने अज्ञात में तहरीर दी है। जबकि भूमि को खुर्द बुर्द करने वाला मात्र एक ही व्यक्ति है। उन्होंने आरोप लगाया संबंधित अधिकारियों ने प्रापर्टी डीलर से सांठगांठ करके मामले को सही रास्ते से भटका दिया है। उन्होंने महाप्रबंधक से इस प्रकरण की जांच कराकर जमीन को कब्जा करने और उसे बचाने का प्रयास करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप