जागरण संवाददाता, देहरादून : भारतीय सैन्य अकादमी (Indian Military Academy) ने शनिवार को अपना 90वां स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर आइएमए कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल वीके मिश्रा ने अकादमी के उच्च मानकों को बनाए रखने के लिए सैन्य व सिविल स्टाफ की कर्तव्य निष्ठा व समर्पण भाव की प्रशंसा की।

राष्ट्र को उत्कृष्ट सेवा प्रदान की

उन्होंने याद दिलाया कि आइएमए (Indian Military Academy) ने कई हजार सैन्य अधिकारियों को प्रशिक्षण देकर राष्ट्र को उत्कृष्ट सेवा प्रदान की। उन्होंने अकादमी को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए सैन्य व सिविल कर्मियों से और अधिक उत्साह के साथ काम करने का आग्रह किया।

एक अक्टूबर 1932 को अस्तित्व में आया आइएमए

आइएमए एक अक्टूबर 1932 को अस्तित्व में आया। पिछले 90 वर्षों में अकादमी ने अपनी प्रशिक्षण क्षमता 40 से 1650 जैंटलमैन कैडेट तक बढ़ा दी है। अभी तक 64,145 जैंटलमैन कैडेट अकादमी से पास आउट हुए हैं। इसमें 34 मित्र देशों के 2813 विदेशी कैडेट भी शामिल हैं।

अकादमी का है समृद्ध इतिहास

अकादमी का समृद्ध इतिहास है और यहां से पास आउट कैडेट ने सभी क्षेत्रों में उत्कृष्टता हासिल की है। उन्होंने न सिर्फ रण में, बल्कि सामरिक रणनीति में भी अहम योगदान दिया है।

889 अधिकारियों ने दिया सर्वोच्च बलिदान

वहीं, खेल व अन्य गतिविधियों में भी बेहतरीन प्रदर्शन किया। युद्ध में साहस और शौर्य प्रदर्शित करने पर मिलने वाले वीरता पदक खुद उनके पराक्रम व नेतृत्व कौशल की कहानियां कहते हैं। आइएमए से पास आउट 889 अधिकारियों ने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया है।

यह भी पढ़ें:- Indian Military Academy POP: भारतीय सेना को मिले 288 युवा सैन्य अधिकारी, तस्‍वीरों में देखें आइएमए में हुई पासिंग आउट परेड

आइएमए की गौरवशाली विरासत

इस विशेष दिन पर स्टाफ के सभी सदस्यों, जैनटलमैन कैडेट, सैन्य और सिविल कर्मचारियों ने आइएमए की गौरवशाली विरासत को बनाए रखने के लिए समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ काम करने का संकल्प लिया।

यह भी पढ़ें:- जानिए भारतीय सैन्‍य अकादमी का इतिहास, जहां तैयार किए जाते हैं युवा सैन्‍य अफसर

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट