जागरण संवाददाता, देहरादून: मानसून सीजन की विदाई में देरी के बाद नवंबर की शुरुआत में ठंड सामान्य से कम रही। हालांकि, अभी भी ज्यादातर इलाकों का तापमान सामान्य से अधिक बना हुआ है। इसका एक कारण बारिश न होने को बताया जा रहा है। लेकिन, अब दिसंबर के पहले सप्ताह से प्रदेश के ज्यादातर क्षेत्रों में ठंड में इजाफा हो सकता है।

इस दौरान पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के चलते कहीं-कहीं हल्की बारिश और बर्फबारी के आसार बन रहे हैं। जिससे तापमान में गिरावट आ सकती है। उत्तराखंड में सुबह-शाम ठंड का असर बढ़ रहा है। मैदानों में हल्का कोहरा छाने और पहाड़ों में पाला गिरने से रात को ठिठुरन में इजाफा है। हालांकि, दिन में चटख धूप खिलने और मौसम शुष्क होने के कारण तापमान सामान्य से अधिक बना हुआ है। दून समेत अधिकतर शहरों में पारा सामान्य से एक से दो डिग्री सेल्सियस अधिक है। हालांकि, न्यूनतम तापमान सामान्य बना हुआ है और धीरे-धीरे इसमें गिरावट दर्ज की जा रही है। मौसम विभाग केंद्र के मुताबिक फिलहाल प्रदेश में मौसम साफ है।

यह भी पढ़ें- होम स्टे खोलने की सोच रहे हैं तो ये है काम की खबर, यहां सरकार ने बढ़ाई सब्सिडी, मिलेंगी अन्य सुविधाएं भी

दिसंबर के पहले सप्ताह में अरब सागर की ओर से पश्चिमी विक्षोभ हिमालय की ओर से बढ़ने की संभावना है। जिससे उत्तराखंड में हल्की बारिश और बर्फबारी के आसार बन रहे हैं। ऐसे में तापमान में गिरावट के साथ ठंड में बढ़ोतरी हो सकती है। खासकर मैदानी इलाकों में सुबह और शाम कड़ाके की ठंड पड़ सकती है। इसके बाद पूरे दिसंबर और जनवरी में हाड कंपाने वाली ठंड बनी रह सकती है।

यह भी पढ़ें- 11 वरिष्ठ आइएफएस अधिकारियों में कोरोना वायरस की पुष्टि, आइजीएफए में आए थे ट्रेनिंग को; सात अन्य भी संक्रमित

Edited By: Sumit Kumar