जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की मौत के आंकड़े ने एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। शनिवार को राज्य में तीन मरीजों की मौत रिपोर्ट की गई। इनमें दो मौत हरिद्वार में दर्ज की गई। हालांकि, यह मौत अप्रैल माह की हैं, जिनकी सूचना स्टेट कंट्रोल रूम को अब सात माह बाद दी गई।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान यह बात सामने आई थी कि कई अस्पताल संक्रमित मरीजों की मौत के आंकड़े छुपा रहे हैं। इस पर राज्य सरकार ने भी अस्पतालों को निर्देश जारी किए कि कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत से संबंधित सूचना उसी दिन अथवा दूसरे दिन दोपहर 12 बजे तक राज्य कंट्रोल रूम को भेजी जाए। अन्यथा संबंधित अधिकारी व अस्पताल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। जिसका कोई असर जिम्मेदारों पर पड़ता नहीं दिखा। अब भी नियमित तौर पर मौत के आंकड़े में कई माह पुराना बैकलाग जुड़ रहा है। ऐसे अस्पतालों पर क्या कार्रवाई की जा रही है, यह विभाग ही बेहतर बता सकता है।

प्रदेश में दस लोग मिले संक्रमित

उत्तराखंड में शनिवार को कोरोना संक्रमण के 10 नए मामले मिले, जबकि 21 मरीज स्वस्थ हुए हैं। राज्य में अब तक कोरोना के 3,44,345 मामले आए हैं। जिनमें 3,30,592 (96.01 प्रतिशत) लोग कोरोना को मात देकर स्वस्थ्य हो चके हैं। फिलहाल प्रदेश में कोरोना के 173 सक्रिय मामले हैं। वहीं, कोरोना संक्रमण से अब तक 7411 मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, अलग-अलग लैब से 13 हजार 178 सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई, इनमें 13,168 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। नैनीताल में सबसे अधिक पांच लोग संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा देहरादून व हरिद्वार में दो-दो और ऊधमसिंह नगर में एक व्यक्ति संक्रमित मिला है। अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, चंपावत, पौड़ी, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, टिहरी व उत्तरकाशी में कोरोना संक्रमण का कोई नया मामला नहीं मिला है।

यह भी पढ़ें:- Uttarakhand Coronavirus Update: उत्‍तराखंड में कोरोना के 10 नए मामले, पांच हुए स्वस्थ

Edited By: Sunil Negi