संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग। श्रद्धालु केदारनाथ धाम में आठ वर्ष बाद फिर आदि शंकराचार्य की समाधि के दर्शन कर सकेंगे। जून 2013 की केदारनाथ आपदा में यह समाधि ध्वस्त हो गई थी। अब उसका पुनर्निर्माण किया गया है। समाधि स्थल के ऊपर आदि शंकराचार्य की 12 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित की जा चुकी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पांच नवंबर को प्रस्तावित केदारनाथ दौरे के दौरान इसका लोकार्पण करेंगे। इससे पूर्व, समाधि स्थल 28 अक्टूबर को आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत केदारनाथ धाम में आदि शंकराचार्य की समाधि का पुनर्निर्माण कार्य वर्ष 2018 में शुरू हुआ था। अब यहां शंकराचार्य की प्रतिमा भी स्थापित की जा चुकी है। इस 35 टन वजनी प्रतिमा को तीन हिस्सों में वायु सेना के चिनूक हेलीकाप्टर से केदारनाथ पहुंचाया गया। यह प्रतिमा मैसूर के मूर्तिकारों ने कृष्णाशिला पत्थर से तैयार की है। वुड स्टोन कंस्ट्रक्शन कंपनी के केदारनाथ प्रभारी मनोज सेमवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री का केदारनाथ दौरा पांच नवंबर को प्रस्तावित है। इस मौके पर प्रतिमा का विधिवत लोकार्पण भी किया किया जाएगा।

केदारनाथ में दर्शन के साथ बर्फ का आनंद भी ले रहे श्रद्धालु

केदारनाथ धाम में बीती रात हुई बर्फबारी के बाद सोमवार को मौसम सुहावना रहा। हालांकि धाम में दो इंच तक बर्फ जम जाने से केदार बाबा के दर्शन के साथ ही भक्तों ने बर्फ का भी आनंद उठाया।

केदारनाथ में रविवार को पूरे दिन बर्फबारी होती रही, जो देर रात तक जारी रही। बर्फबारी होने से धाम में मौसम काफी ठंडा हो गया है। यहां कड़ाके की ठंड पड़ रही है। तापमान में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। केदारनाथ में रात का न्यूनतम तापमान माइनस चार डिग्री तक पहुंच गया है। हालांकि ठंड के बावजूद भक्तों के जोश में कोई कमी नहीं दिख रही है। बीते रोज भी 10 हजार से अधिक यात्रियों ने भोले बाबा के दर्शन किए। वहीं सोमवार को मौसम काफी सुहावना रहा। सुबह और शाम को कड़ाके की ठंड रही, लेकिन दोपहर को मौसम काफी खुशनुमा रहा।

सुबह धाम में दो इंच तक बर्फ जमी थी, यात्रियों ने भोले बाबा के दर्शन करने के साथ ही बर्फ का भी आनंद उठाया। देवस्थानम बोर्ड के केदारनाथ प्रभारी युद्धवीर सिंह पुष्पवाण ने बताया कि केदारनाथ धाम में ठंड काफी अधिक हो गई है। हालांकि अभी भी यात्री बड़ी संख्या में दर्शनों को आ रहे हैं। अब तक एक लाख 63 हजार यात्री केदार बाबा के दर्शन कर चुके हैं।

Edited By: Sunil Negi