जागरण संवाददाता, देहरादून: देव भूमि गोल्ड कप क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से आयोजित 38वें आल इंडिया गोल्ड कप में छत्तीसगढ़ और सीएयू ग्रीन के बीच खेला गया पहला मुकाबला ड्रा रहा। वहीं, दूसरे मुकाबले में फूड कारपोरेशन आफ इंडिया (एफसीआइ) ने इंडियन एयर फोर्स को हराकर जीत से शुरुआत की।

शुक्रवार को महाराणा प्रताप स्पोट्र्स कालेज के मैदान पर टूर्नामेंट का उद्घाटन मुख्य अतिथि वन मंत्री सुबोध उनियाल ने किया। इसके बाद छत्तीसगढ़ क्रिकेट एसोसिएशन और क्रिकेट एसोसिएशन आफ उत्तराखंड ग्रीन के बीच मुकाबला खेला गया।

छत्तीसगढ़ ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय किया। छत्तीसगढ़ को शशांक (22 रन) व किवनोर सिंह (0 रन) के रूप में शुरुआती झटके लगे। इसके बाद संगीज सोनी की 75 गेंद में 67 रन, आनंद राव की 47 व शाकिब अहमद 39 रन की पारी के दम पर निर्धारित 35 ओवर में सभी नौ विकेट गंवाकर 213 रन बनाए।

सीएयू ग्रीन के लिए दीपक धपोला ने दो और निखिल, हिमांशु व कमल सिंह ने एक-एक विकेट झटका। जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी सीएयू ग्रीन की सलामी जोड़ी तनुष गुसाईं 17 व कमल सिंह 13 रन पर पवेलियन लौट गए।

इसके बाद कुणाल चंदेला 48 व रोबिन बिष्ट की 65 रन की पारी ने स्कोर के करीब पहुंचाया। 34.4 ओवर में सीएयू ग्रीन सभी विकेट गंवाकर 213 रन ही बना सकी। इस तरह यह मैच ड्रा घोषित कर दिया गया।

सीएयू ग्रीन के लिए निचलेक्रम में दीपक धपोला की सात गेंद में 22 रन की पारी की बदौलत टीम हार से बच गई। छत्तीसगढ़ के लिए वासुदेव ने पांच और पंकज राव व सत्यम दुबे ने दो-दो विकेट झटके। वहीं, तनुष क्रिकेट एकेडमी में दूसरा मुकाबला इंडियन एयर फोर्स और एफसीआइ के बीच खेला गया। इसमें एफसीआइ ने टास जीतकर इंडियन एयर फोर्स को पहले बल्लेबाजी करने के लिए आमंत्रित किया।

इंडियन एयर फोर्स ने 39.4 ओवर में सभी विकेट खोकर 156 रन बनाए। टीम के लिए रजत पालिवाल ने 43 रन, देवेंद्र ने 37 रन और विकास यादव ने 27 रन बनाए। एफसीआइ के लिए मयंक मल्होत्रा ने चार और राजेंद्र बिष्ट ने तीन विकेट झटके।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी एफसीआइ ने नितिन सैनी की 58 और सुमित माथुर की नाबाद 45 रन की पारी के दम पर 35 ओवर में ही 157 रन बनाकर मुकाबले को पांच विकेट से जीत लिया। इंडियन एयर फोर्स के लिए विकास यादव व खालिद अहमद ने दो-दो विकेट झटके।

गोल्ड कप को मिले 30 लाख

38वें आल इंडिया गोल्ड कप क्रिकेट टूर्नामेंट को उद्घाटन के दौरान 30 लाख रुपये देने की घोषणा हुई। इसमें क्रिकेट एसोसिएशन आफ उत्तराखंड के अध्यक्ष जोत सिंह गुनसोला ने 25 लाख और मुख्य अतिथि वन मंत्री सुबोध उनियाल ने पांच लाख रुपये देने की घोषणा मंच से की।

विवाद के बीच शुरू हुआ गोल्ड कप, धरना-प्रदर्शन

गोल्ड कप के आयोजन के लिए बनी देव भूमि गोल्ड कप क्रिकेट एसोसिएशन में पद नहीं मिलने और नजरअंदाज करने से नाराज क्रिकेट एसोसिएशन आफ उत्तराखंड के (सीएयू) के सदस्य पूर्व कैबिनेट मंत्री हीरा सिंह बिष्ट ने गोल्ड कप के उद्घाटन के मौके पर धरना-प्रदर्शन किया।

शुक्रवार को महाराणा प्रताप स्पोट्र्स कालेज के मैदान पर 38वें आल इंडिया गोल्ड कप का उद्घाटन होना था। पूर्व कैबिनेट मंत्री हीरा सिंह बिष्ट अपने समर्थकों के संग स्पोट्र्स कालेज के गेट पर पहुंचे और विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि बीते वर्षों में क्रिकेट में भ्रष्टाचार बढ़ा है। उदीयमान खिलाडिय़ों को खेलने का मौका नहीं मिल रहा है।

वह पिछले 37 साल से गोल्ड कप का आयोजन कराते आ रहें हैं, लेकिन इस वर्ष गोल्ड कप के लिए बनी नई एसोसिएशन में उन्हें शामिल नहीं किया गया। इतना ही नहीं एसोसिएशन बनाने से पहले उनसे रायशुमारी तक नहीं की गई। कहा कि आयोजकों के इस तरह से नजरअंदाज करने से वह आहत हुए हैं। इस दौरान पृथ्वी सिंह नेगी, पंकज क्षेत्री समेत अन्य मौजूद रहे।

वहीं एसोसिएशन के अध्यक्ष मदन कोहली का कहना है कि एसोसिएशन के गठन से पहले तीन बार हीरा सिंह बिष्ट से संपर्क किया गया, लेकिन उन्होंने क्रिकेट संबंधित वार्ता के लिए स्पष्ट मना कर दिया। अब वह खेल का मखौल उड़ाने के लिए इस तरह की बयानबाजी कर रहें हैं।

प्रतिष्ठित टूर्नामेंट हैं गोल्ड कप

आल इंडिया गोल्ड कप उत्तराखंड का प्रतिष्ठित टूर्नामेंट है, इस टूर्नामेंट में भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, विरेंद्र सहवाग, पीयूष चावला, मनोज तिवारी, प्रवीण कुमार, राहुल तेवतिया जैसे खिलाड़ी हिस्सा ले चुके हैं। इतना ही नहीं पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि देशों की टीमें भी गोल्ड कप में प्रतिभाग करने की इच्छा जता चुकी हैं। ऐसे प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की शुरुआत विवादों के बीच होना, क्रिकेट व क्रिकेट प्रेमियों के लिए किसी दुख दर्द से कम नहीं है।

Edited By: Nirmala Bohra