मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

राज्य ब्यूरो, देहरादून: भराड़ीसैंण (गैरसैण) में बनने वाले अंतर्राष्ट्रीय शोध संस्थान के विकास में कॉमनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन (सीपीए) वित्तीय मदद करेगा। सीपीए की कार्यकारी समिति की कनाडा में हुई बैठक में भाग लेकर लौटे विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने यह संकेत दिए। विधानसभा में पत्रकारों से अनुभव साझा करते हुए अग्रवाल ने कहा कि इस सिलसिले में उन्होंने बैठक में प्रस्ताव रखा। उम्मीद है कि युगांडा में होने वाले सीपीए सम्मेलन से पहले इसके सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे।

विस अध्यक्ष अग्रवाल ने कहा कि सीपीए की इस बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व करना उनके लिए गौरव की बात है। इस मौके पर सालभर हुए कार्याें की समीक्षा की गई और भावी कार्यक्रमों पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सीपीए की बैठकें व प्रशिक्षण होते रहते हैं। इस लिहाज से उन्होंने भराड़ीसैंण में बनने वाले अंतर्राष्ट्रीय शोध संस्थान को उपयुक्त बताते हुए इसके लिए सीपीए से मदद के मद्देनजर प्रस्ताव रखा। साथ ही सीपीए से वित्तीय मदद को लेकर चर्चा की। उन्होंने बताया कि इस वर्ष सीपीए का सम्मेलन युगांडा में होगा, जिसकी व्यवस्थाओं को लेकर भी चर्चा की गई। इंडिया रीजन से असोम के विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्रनाथ भी उनके साथ मौजूद थे।

विस अध्यक्ष को किया सम्मानित

पांच दिवसीय कनाडा दौरे के दरम्यान सीपीए की बैठक में देश का प्रतिनिधित्व कर लौटे विस अध्यक्ष अग्रवाल को सोमवार को विधानसभा में मानवाधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन की ओर से सम्मानित किया गया। इस मौके पर उन्हें पगड़ी पहनाई गई और स्मृति चिह्न भेंट किया गया। कार्यक्रम में विधायक खजानदास व देशराज कर्णवाल, विधानसभा सचिव जगदीश चंद, मानवाधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सचिन जैन, मधु जैन, भाजयुमो के जिलाध्यक्ष विपुल मैंदोली आदि मौजूद थे। संचालन राजेंद्र पंत ने किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप