देहरादून, जेएनएन। Coronavirus कोरोना काल में बेहतर स्वास्थ्य इंतजामों के लिए अमीर-गरीब सभी ने अपनी सामर्थ्य के अनुसार सरकार को आर्थिक मदद दी। वहीं, उत्तराखंड में पुलिस ने भी कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों पर शिकंजा कसते हुए बतौर जुर्माना करीब साढ़े नौ करोड़ रुपये सरकार के खाते में पहुंचाए। यह उनके लिए सबक है, जो अब भी शासन-प्रशासन की तमाम अपील के बाद नियमों का पालन करने में लापरवाही कर रहे हैं। जाहिर है, अगर उत्तराखंड के लाखों लोग 'मनमानी' न करते तो जुर्माने के रूप में सरकार को साढ़े नौ करोड़ रुपये का 'सहयोग' भी नहीं मिलता।

खूब चला कानून का चाबुक

मार्च से शुरू हुए लॉकडाउन और जून से शुरू हुए अनलॉक में कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस ने खूब कानून का चाबुक चलाया। शारीरिक दूरी का उल्लंघन, मास्क न पहनने, क्वारंटाइन नियमों का उल्लंघन से लेकर पुलिस एक्ट, महामारी एक्ट और मोटर वाहन अधिनियम में ताबड़तोड़ कार्रवाई की। हालांकि इन सब के बाद भी नियमों के उल्लंघन का सिलसिला थमा नहीं।

लॉकडाउन में कार्रवाई

अपराध, मुकदमा

शारीरिक दूरी का उल्लंघन, 16616

मास्क न पहनना, 153742

क्वारंटाइन का उल्लंघन, 838

सोशल मीडिया पर अफवाह, 211

जुर्माना वसूला (रुपये में)

पुलिस एक्ट में 1.75 करोड़

एमवी एक्ट में 6.24 करोड़

महामारी एक्ट में 5.14 करोड़

यह भी पढ़ें: ऋषिकेश में बिना मास्क मिले 1015 लोग, पुलिस ने ठोका जुर्माना

पुलिस महानिदेशक अपराध और कानून असोक कुमार ने बताया कि आम नागरिकों से कोविड गाइडलाइन का गंभीरता से पालन करने की लगातार अपील की जा रही है। फिर भी जो मनमानी कर रहे हैं, उन पर कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन की झूठी खबर पोस्ट करने वाले पर मुकदमा दर्ज

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस