जागरण संवाददाता, देहरादून : प्रदेश में मंगलवार को कोरोना के 19 नए मामले मिले, जबकि नौ मरीज स्वस्थ हुए हैं। कोरोना से किसी मरीज की मौत नहीं हुई है। वहीं, संक्रमण दर 1.11 प्रतिशत रही। प्रदेश में फिलवक्त कोरोना के 77 सक्रिय मामले हैं। देहरादून में सबसे अधिक 46, जबकि हरिद्वार में आठ व नैनीताल में छह सक्रिय मामले हैं। दो जिलों चम्पावत और पिथौरागढ़ में कोरोना का कोई सक्रिय मामला नहीं है।

24 घंटे में 1712 सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार निजी व सरकारी लैब से पिछले 24 घंटे में 1712 सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इनमें से 1693 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई। देहरादून में सबसे अधिक नौ लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा हरिद्वार व टिहरी में तीन-तीन, अल्मोड़ा, बागेश्वर, नैनीताल व पौड़ी में एक-एक व्यक्ति संक्रमित मिला है। अन्य छह जिलों चमोली, चम्पावत, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, ऊधमसिंह नगर व उत्तरकाशी में कोरोना का कोई नया मामला नहीं मिला है।

इधर, विभिन्न जिलों से 1944 सैंपल कोरोना जांच को भेजे गए हैं। प्रदेश में इस साल कोरोना के 92,739 मामले मिले हैं। इनमें से 89,128 (96.11 प्रतिशत) लोग कोरोना को मात दे चुके हैं। कोरोना संक्रमण से इस साल 275 मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

विदेश जाने वाले 90 दिन बाद ले सकते हैं सतर्कता डोज

विदेश यात्रा पर जाने वाले व्यक्तियों को कोरोना रोधी वैक्सीन की सतर्कता डोज को लेकर बड़ी राहत मिली है। ऐसे लोग निर्धारित नौ महीने की प्रतीक्षा अवधि से पहले ही सतर्कता डोज ले सकेंगे। नई सुविधा कोविन पोर्टल पर उपलब्ध हो गई है।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा. मनोज उप्रेती ने बताया कि मौजूदा प्रविधानों के अनुसार 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोग जिन्हें दूसरी डोज लिए हुए नौ माह हो गए हैं, वह सतर्कता डोज के लिए पात्र हैं। स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर और 60 वर्ष व उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों को सतर्कता डोज सरकारी केंद्रों पर लग रही है। अन्य लोग निजी केंद्रों पर सतर्कता डोज लगवा सकते हैं।

नौकरी, शिक्षा और कारोबार के मकसद से विदेश की यात्रा करने वाले व्यक्तियों को सतर्कता डोज के लिए तय समय में ढील दी गई है। वह दूसरी खुराक के 90 दिन बाद ही सतर्कता डोज ले सकते हैं। इस संबंध में सभी निजी व सरकारी केंद्र और आइएमए के अध्यक्ष व सचिव को पत्र भेज दिया गया है। कोविन पोर्टल पर भी व्यवस्था कर दी गई है।

Edited By: Nirmala Bohra