देहरादून, राज्य ब्यूरो। बुधवार से प्रारंभ हो रहे विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस सदन के भीतर और बाहर सरकार को घेरेगी। पार्टी ने श्राइन बोर्ड के गठन का विरोध करने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही टीएचडीसी का स्वामित्व बदलने, गैरसैंण, आयुष छात्रों की फीस वृद्धि के साथ बढ़ती आपराधिक वारदातों, बकाया भुगतान समेत किसानों की समस्याओं को लेकर प्रमुख प्रतिपक्षी दल ने सत्तारूढ़ दल और सरकार पर तीखे प्रहार करने की तैयारी की है। 

प्रदेश की भाजपा सरकार के तीन साल का कार्यकाल पूरा करने की दिशा में बढ़ते कदमों के बीच कांग्रेस ने भी आक्रामक रुख अपना लिया है। सरकार की घेराबंदी सदन के भीतर और बाहर दोनों मोर्चे पर की जा रही है। श्राइन बोर्ड के गठन के सरकार के फैसले के विरोध में जिसतरह हक-हकूकधारी विरोध कर रहे हैं, पार्टी ने उसे मुद्दा बनाने के संकेत दिए हैं। 

विधानसभा सत्र से दो दिन पहले सोमवार को नई टिहरी में टीएचडीसी का स्वामित्व बदलकर उसे निजी हाथों में सौंपने के मामले को लेकर प्रदेश संगठन की ओर से धरना दिया जा चुका है। सत्र के दौरान सदन में सरकार और सत्तारूढ़ दल पर भरपूर हमला बोला जाएगा। 

यह भी पढ़ें: यूकेडी युवा प्रकोष्ठ का शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार को लेकर संघर्ष का एलान

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि पार्टी टीएचडीसी के निजीकरण के साथ ही तमाम मुद्दों को प्रमुखता से उठाएगी। कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक कार्यमंत्रणा समिति से पहले होगी, जिसमें उक्त मुद्दों के साथ ही विधायकों के क्षेत्रवार मुद्दों को भी सत्र के दौरान उठाने की रणनीति बनाई जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस