जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022: उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी की ओर से 'उत्तराखंडी स्वाभिमान, चार धाम-चार काम' अभियान लांचिंग के दौरान अचानक पूर्व कैबिनेट मंत्री व हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए डा. हरक सिंह रावत पहुंच गए। उन्हें देख मंच पर बैठे कांग्रेस नेता असहज दिखे। बहरहाल, पार्टी के प्रवक्ता राजीव महर्षि नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह के बगल वाली कुर्सी छोड़कर खड़े हो गए, हरक सिंह इस कुर्सी पर बैठ गए।

कांग्रेस का यह कार्यक्रम पहले ही निर्धारित समय से करीब डेढ़ घंटे देरी से शुरू हुआ। कार्यक्रम शुरू हुए करीब 20 मिनट ही बीते थे कि हरक सिंह की एंट्री हुई, जिससे कांग्रेस नेता असहज से हो गए। इस दौरान मंच पर बैठने और मंच से उतरने के बाद एक बार भी पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व डा. हरक सिंह रावत के बीच कोई बात नहीं हुई।

कार्यक्रम समाप्त होने के बाद होटल परिसर में पत्रकारों ने डा.हरक सिंह रावत को घेर लिया और उन पर कई सवाल दागे। पत्रकारों से बातचीत में एक बार फिर डा. हरक सिंह की हनक सामने आई, जब उन्होंने दावा किया कि प्रदेश की 25 सीटों पर वह 25 हजार वोट को एक ही इशारे पर इधर से उधर करने की क्षमता रखते हैं।

डोईवाला या चौबट्टाखाल से चुनाव लड़ने के सवाल पर हरक सिंह ने हंसते हुए कहा कि डोईवाला में तो त्रिवेंद्र उनके आने से पहले ही मैदान छोड़कर घर बैठ गए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें चुनाव लड़ना है या नहीं अथवा कहां से लड़ना है, यह पार्टी तय करेगी। वह कांग्रेस के सिपाही बनकर भाजपा का प्रदेश में सफाया करने के लिए तत्पर हैं। 

एक सवाल के जवाब में हरक सिंह ने कहा कि कांग्रेस में शामिल होने पर यहां कोई मतभेद नहीं हैं। हरीश रावत बड़े भाई हैं, उनका आशीर्वाद प्राप्त है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस को सत्ता में आने से कोई नहीं रोक सकता है। इस दौरान थोड़ी ही दूर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे, लेकिन यह दोनों नेता सार्वजनिक रूप से नहीं मिले।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Election: हरक सिंह रावत पर बना सस्पेंस, अनुकृति पर साफ हुई तस्वीर; जानिए कहां से लड़ेंगी चुनाव

Edited By: Raksha Panthri