देहरादून, राज्य ब्यूरो। पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में मतदान 47.48 फीसद तक सीमित रह जाने से सियासी दलों के माथे पर बल पड़े हैं। इससे उपचुनाव में कड़े संघर्ष के आसार भी बन गए हैं। वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने भरोसा जताया कि उपचुनाव में कांग्रेस को कामयाबी मिलेगी।

पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए सोमवार को मतदान हुआ। मतदान 50 फीसद से कम रहने से सियासी दलों में बेचैनी देखी जा रही है। इसे भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकाबला कड़ा होने के संकेत के रूप में लिया जा रहा है। इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी के रूप में स्वर्गीय प्रकाश पंत की पत्नी चंद्रा पंत तो कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में अंजु लुंठी के बीच मुख्य मुकाबला है। 

कांग्रेस इस उपचुनाव को भी प्रतिष्ठापूर्ण मान रही है। इस वजह से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश, प्रदेश प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह व सह प्रभारी राजेश धर्माणी भी कांग्रेस प्रत्याशी के चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने कई दिनों तक चुनाव प्रचार की बागडोर संभाली। 

यह भी पढ़ें: पंचायत प्रतिनिधियों की शपथ होगी 27, 29 नवंबर व एक दिसंबर को

प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि मतदान में पार्टी के पक्ष में अच्छा मतदान होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि रुड़की नगर निगम चुनाव में कांग्रेस को भले ही हार मिली, लेकिन पार्टी दूसरे स्थान पर रही, जबकि सत्तारूढ़ दल भाजपा तीसरे स्थान पर खिसक गया। यह प्रदेश में बदलाव की हवा है। 

यह भी पढ़ें: महाराष्‍ट्र प्रकरण पर रीता बहुगुणा जोशी ने शिवसेना को लिया आड़े हाथ

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस