देहरादून, जेएनएन। लॉकडाउन में 43 दिन बाद शराब के ठेके खुले तो आशंका के अनुरूप शराब के ठेकों के आगे लंबी कतार लगी रही। सुबह सात बजे से लेकर ठेके बंद होने तक (अपराह्न चार बजे) भीड़ में किसी भी तरह की कमी नजर नहीं आई। राहत की बात यह रही कि पुलिस की उपस्थिति में शारीरिक दूरी का कड़ाई से पालन कराया गया। हालांकि, ठेके तक आने व वापस जाने के दौरान नियम टूटते रहे। इसके अगले दिन भीड़ में आधे से भी अधिक की कमी आ गई। 

वहीं, गुरुवार को चौथे दिन हालात पूरी तरह सामान्य दिखे। शराब पर कोविड टैक्स लगाने की तैयारियों के बीच पुलिस आशंकित थी कि कहीं भीड़ दोबारा न उमड़ पड़े। हालांकि, लोगों में ऐसी बेचैनी कहीं नहीं दिखी। दिनभर सामान्य तरह से ही लोगों ने शराब खरीदी। इससे पुलिस ने भी राहत की सांस ली और कोरोना संक्रमण को लेकर चिंतित जिला प्रशासन भी सुकून में दिखा। हालांकि, अब शराब के दाम बढ़ गए हैं तो भीड़ में और कमी आने की उम्मीद की जा रही है।

राजपुर ठेके का किया चालान

लॉकडाउन में सुरा के शौकीनों की मजबूरी का जमकर फायदा उठा रहे शराब ठेकेदारों पर आबकारी विभाग का शिकंजा भी कस रहा है। गुरुवार को भी जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय की टीम ने शराब के ठेकों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान राजपुर स्थित ठेके में ओवररेटिंग पाई गई। यहां एक हाफ पर 20 रुपये अधिक वसूल किए जा रहे थे। जिला आबकारी अधिकारी रमेश बंगवाल ने बताया कि अभी चेकिंग अभियान निरंतर जारी रहेगा।     

ट्रांसपोर्टरों ने मांगी रियायत

कोरोना के चलते ठप पड़े परिवहन व्यवसाय को पटरी पर लाने के लिए दून ट्रेवल ऑनर्स एसोसिएशन ने दो साल तक व्यवसायिक वाहनों का समस्त कर और बीमा माफ करने की मांग की है। गुरुवार को इस संबंध में एसोसिएशन के टैगोर विला कार्यालय में शारीरिक दूरी का पालन करते हुए एक बैठक हुई। बैठक में एसोसिएशन के सचिव अनमोल अग्रवाल ने कहा कि कोरोना के चलते परिवहन व्यापार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। ट्रांसपोर्टरों की कमर टूट गई है और उनके पास टैक्स और बीमा जमा करने का कोई साधन नहीं।

यह भी पढ़ें: नई कीमत अंकित होने तक शराब की गोदाम से निकासी पर रोक, पढ़िए

यही नहीं गाड़ियों की किश्तें कैसे भरी जाएंगी ये भी बड़ी चुनौती है। इस दौरान सरकार से मांग की गई कि जिन ट्रेवल एजेंसियों का कार्यालय किराये पर है, उनका छह महीने का किराया माफ किया जाए। इसके साथ ही बैंकों का ब्याज एक साल के लिए माफ किया जाए और वाहनों का थर्ड पार्टी बीमा भी एक साल के लिए माफ किया जाए। बैठक में एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष इंद्रजीत सिंह, सह सचिव सुरेंद्र कोहली, आडिटर भगवान सिंह पंवार, सदस्य दीपक भट्ट, प्रवीण चावला, राजेंद्र काला, परमजीत सिंह, तेज पाल सिंह, राकेश खंडूजा, धीरज गोयल व रंजीत यादव आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: कैबिनेट बैठक: शराब पर कोविड टैक्स और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का लिया निर्णय 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस