देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के नाम से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को आए फर्जी फोन के मामले में जांच-पड़ताल शुरू हो गई है। पुलिस की ओर से इस मामले में मुख्यमंत्री कार्यालय से संपर्क साधा जा रहा है ताकि फोन नंबर आदि के संबंध में जानकारी उपलब्ध हो सके। वहीं, मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय को सूचना दे दी गई है।

हाल ही में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के दिल्ली दौरे के दौरान किसी व्यक्ति ने खुद को प्रधानमंत्री कार्यालय में तैनात अधिकारी बताकर लगातार फोन किए। इसके साथ ही उक्त व्यक्ति ने विधानसभा में बनाई जाने वाली समिति में अपने एक परिचित को रखने की सिफारिश की। इसके बाद बात समाप्त हो गई। अगले दिन फिर उक्त व्यक्ति ने मुख्यमंत्री को फोन कर एक अन्य अधिकारी की तैनाती की सिफारिश की।

लगातार फोन आने पर मुख्यमंत्री ने संबंधित व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की तो पता चला कि उस नाम का कोई व्यक्ति पीएमओ कार्यालय में तैनात नहीं है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने इस मामले में जांच के निर्देश दिए थे। चर्चा यह भी रही कि संबंधित व्यक्ति के खिलाफ दिल्ली में तहरीर दी गई है। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई। मुख्यमंत्री के मीडिया समन्वयक दर्शन सिंह रावत ने बताया कि इस मामले में फिलहाल प्रधानमंत्री कार्यालय को सूचना दी गई है। 

अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश का कहना है कि मुख्यमंत्री से जुड़ा मामला होने के कारण इसकी निश्चित तौर पर जांच कराई जाएगी। वहीं, अपर महानिदेशक कानून-व्यवस्था अशोक कुमार का कहना है कि मामले में जानकारी जुटाई जा रही है। मुख्यमंत्री कार्यालय से संपर्क कर फोन नंबर लेने का प्रयास किया जाएगा ताकि उक्त व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सके। 

यह भी पढ़ें: भाजपा नेता की कार चालक के साथ मारपीट

यह भी पढ़ें: सब्जी बाजार में मारपीट, पिस्‍टल छिनकर पुलिस को सौंपी

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस