देहरादून, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि नेचुरल गैस पाइप लाइन योजना से  देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश के शहर और आसपास के गांव भी पूरी तरह कवर होने चाहिए। उन्होंने इन तीनों शहरों, ऊधमसिंहनगर और नैनीताल के साथ ही अन्य स्थान पर भी गैस पाइप लाइन का कार्य शुरू करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को अपने आवास पर गेल इंडिया लिमिटेड के अधिकारियों से भेंट की। बैठक में बताया गया कि हरिद्वार-ऋषिकेश-देहरादून पाइप लाइन प्रोजेक्ट (एचआरडीपीएल) के तहत 1500 करोड़ रुपये की लागत से तीन लाख पीएनजी कनेक्शन दिए जाएंगे, जबकि 50 सीएनजी स्टेशन बनाए जाएंगे। इससे मुख्य रूप से ऋषिकेश, डोईवाला, विकासनगर, देहरादून, चकराता, कालसी और त्यूनी क्षेत्र लाभान्वित होंगे। एचआरडीपीएल प्रोजेक्ट के तहत टेंडर, जियोटेक्निकल, टोपोग्राफिकल और हाइड्रोलॉजिकल का कार्य गतिमान है। 

बताया गया कि देहरादून सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन गैस प्रोजेक्ट के तहत चकराता, देहरादून, डोईवाला, कालसी, ऋषिकेश, त्यूनी व विकासनगर का करीब 3088 वर्ग किमी क्षेत्र आच्छादित किया जाएगा। इसकी लागत 1696 करोड़ रुपये है। इसकी डीपीआर स्वीकृत की जा चुकी है। अधिकारियों की नियुक्ति हो चुकी है। इस योजना का कार्य शीघ्र प्रारंभ होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश में गैस ईंधन के रूप में इस्तेमाल करने पर जोर दिया है। गैस ईंधन कम खर्चीला और इको फ्रेंडली है। दूनवासियों समेत विभिन्न क्षेत्रों के लोगों को प्रदूषण से निजात मिल सकेगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे लोगों को रोजगार भी मिलेगा इस परियोजना की प्रत्येक तीन माह में समीक्षा होगी। इस अवसर पर उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ धन सिंह रावत, विधायक मुकेश कोहली, एचआरडीपीएल प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉ आशुतोष कर्नाटक, एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर एसवी प्रसाद, महासचिव केएन सिंह, जेके जैन, सतीश कुमार, डीजीएम बख्तावर सिंह, मनीष गोयल मौजूद थे। 

यह भी पढ़ें: अब उत्तराखंड में नियमित रूप से चलेंगी इलेक्ट्रिक बस, पढ़िए पूरी खबर

यह भी पढ़ें: निगमों और उपक्रमों के कार्मियों की मुराद पूरी, 20 लाख तक मिल सकेगी ग्रेच्यूटी

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस