जागरण संवाददाता, नई टिहरी : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि 2025 में उत्तराखंड देश का आदर्श राज्य बनेगा। प्रदेश में हाईड्रो पावर प्रोजेक्ट की अपार संभावनाएं हैं। टिहरी बांध का जलस्तर दो मीटर बढ़ाने के बाद टीएचडीसी की आय बीस प्रतिशत बढ़ी है। ऐसे में अगर अन्य परियोजनाएं भी शुरू होंगी तो प्रदेश का राजस्व भी बढ़ेगा।

टिहरी बांध व्यू प्वाइंट में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि 2400 मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता वाली टिहरी बांध परियोजना में दो चरण हैं। प्रथम चरण में 1000 मेगावाट की टिहरी बांध जल विद्युत परियोजना है। जबकि दूसरे चरण में 1000 मेगावाट की टिहरी पंप स्टोरेज प्लांट तथा 400 मेगावाट की कोटेश्वर बांध जल विद्युत परियोजना है। पिछले वर्ष सरकार ने टिहरी बांध झील का जलस्तर दो मीटर बढ़ाकर 830 मीटर करने की अनुमति प्रदान की थी। जिसके बाद टिहरी बांध से 20 मिलियन यूनिट अतिरिक्त बिजली उत्पादन हो रहा है। इस वृद्धि के बाद 770 करोड़ रुपये की आय प्रतिवर्ष हो रही है। अब भारत नेपाल की पंचेश्वर बांध परियोजना बनने के बाद प्रदेश का और विकास हो सकेगा।

यह भी पढ़ें- Chardham Yatra 2022: केदारनाथ व यमुनोत्री यात्रा पटरी पर लौटी, अब तक चारधाम में 10 लाख से ज्‍यादा श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

स्व.कुकरेती के नाम पर मार्ग का रखने की मांग

कोटद्वार: आर्य गिरधारी लाल महर्षि दयानंद ट्रस्ट ने गुरुवार को नगर आयुक्त को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में मोहल्ला अपर कालाबड़ में प्राथमिक विद्यालय नंबर-चार से लीसा डिपो की ओर जाने वाले मार्ग का नाम पूर्व प्रधानाचार्य विनोद कुकरेती के नाम पर रखने की मांग की है।

ज्ञापन में ट्रस्ट के अध्यक्ष सुरेंद्र लाल आर्य ने कहा कि नगर क्षेत्र के मार्गों का नामकरण समाजसेवियों के नाम से होने चाहिए, ताकि समाजसेवियों की स्मृतियों को जिंदा रखा जा सके। कहा कि स्व.विनोद चंद्र कुकरेती भी समाज की शख्सियतों में शुमार थे, जिनका निधन बीती 22 फरवरी हो गया था। ज्ञापन सौंपने वालों में पीएल खंतवाल, चक्रधर शर्मा 'कमलेश' शामिल रहे।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand News: बिना परमिट और ग्रीन कार्ड के यात्रा मार्ग पर दौड़ रहे वाहन, टिहरी हादसे ने खोली सरकार की व्यवस्था की पोल

Edited By: Sumit Kumar