देहरादून, जेएनएन। दिसंबर के दूसरे सप्ताह में ही पहाड़ और मैदानों में कंपकंपी छूटने लगी है। प्रदेश में तीन दिन से दस शहरों में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से भी नीचे चल रहा है। अल्मोड़ा में हालत यह रही कि शनिवार को न्यूनतम तापमान शून्य से 1.7 डिग्री सेल्सियस नीचे पहुंच गया।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार इसमें हैरत जैसी कोई बात नहीं है, लम्बे समय के बाद प्रदेश में नवंबर हुई बर्फबारी के कारण यह नौबत आई है। मौसम विभाग भले ही प्रदेश में शीतलहर के प्रकोप से इन्कार कर रहा हो, लेकिन देहरादून, मसूरी, नैनीताल, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में दिन में धूप के बावजूद हाड़ कंपाने वाली हवा चल रही है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार फिलहाल एक-दो दिन मौसम शुष्क बना रहेगा।

इस दौरान पहाड़ों में पाला पड़ने व मैदानों में घना कोहरा छाने की संभावना है। शनिवार को देहरादून का न्यूनतम तापमान 6.7 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि हरिद्वार का न्यूनतम तापमान 6.1 व नैनीताल का न्यूनतम तापमान 6.2 डिग्री सेल्सियस रहने से लोगों को कड़ाके की ठंड का सामाना करना पड़ रहा है।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश के कई इलाकों में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री से कम रहा, लेकिन इन क्षेत्रों में अधिकतम तापमान सामान्य के आसपास रहा। 11 दिसंबर के बाद प्रदेश में बारिश एवं बर्फबारी की संभावना बन रही है।

न्यूनतम तापमान 

(डिग्री सेल्सियस में)

  • अल्मोड़ा -1.7 
  • जोशीमठ 2.2 
  • पिथौरागढ़ 2.4 
  • मुक्तेश्वर 3.7 
  • पंतनगर 4.8 
  • उधमसिंह नगर 4.9 
  • मसूरी 4.9 
  • चंपावत 4.9 
  • नई टिहरी 5.0 
  • उत्तरकाशी 4.9

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के चारधाम में बारिश और बर्फबारी के आसार, पड़ेगी कड़ाके की सर्दी

यह भी पढ़ें: मसूरी की सर्द हवाओं से दून में बढ़ी ठंड, कोहरे की चेतावनी

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में फिर बदला मौसम, उच्च हिमालय में हुआ हिमपात