राज्य ब्यूरो, देहरादून। 25 हजार रुपये लेकर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग में चौकीदार (सुरक्षा गार्ड) की नौकरी देने के मामले में जांच के बाद विभाग को क्लीन चिट दे दी गई। जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि आउटसोर्सिंग एजेंसी ने यह राशि तय मानकों के अनुरूप पंजीकरण शुल्क व धरोहर राशि के रूप में जमा कराई थी।

बीती सात सितंबर को आप ने इसे नियुक्तियों घपला बताकर सरकार को कठघरे में खड़ा किया था। इस पर विभागीय मंत्री रेखा आर्य और सचिव एचसी सेमवाल ने निदेशालय को प्रकरण की जांच के आदेश दिए। उपनिदेशक एसके सिंह ने दो दिन पहले शासन को जांच रिपोर्ट सौंप दी।

रिपोर्ट में बताया गया कि विभाग में मानव संसाधन की आपूर्ति के लिए ए-स्क्वायर मैनपावर साल्यूशन एजेंसी लखनऊ के साथ 31 मार्च 2022 तक का अनुबंध किया गया है। इसी साल छह अगस्त को अजय कोठियाल के आवेदन पर एजेंसी ने उन्हें चम्पावत जिले के वन स्टाप सेंटर में चौकीदार के पद पर नियुक्ति पत्र जारी किया। रिपोर्ट में एजेंसी के हवाले से बताया गया है कि वह सभी आवेदकों से पंजीकरण शुल्क और चयनित होने पर धरोहर राशि लेती है।

धरोहर राशि संतोषजनक कार्य करने की स्थिति में ब्याज सहित लौटा दी जाती है। इसी प्रक्रिया के तहत अजय कोठियाल से पंजीकरण शुल्क और धरोहर राशि जमा कराई गई। यह राशि नियुक्ति पत्र देने से पहले एजेंसी ने श्रीमती निर्मला सिंह सेवा समिति के खाते में आनलाइन जमा करवाई थी।

यह भी पढ़ें- कर्नल को 25 हजार लेकर सुरक्षा गार्ड की नौकरी देने वाली एजेंसी को नोटिस, जानिए पूरा मामला

भू-कानून पर सुभाष कुमार समिति की बैठक अब 21 को

प्रदेश में भू-कानून पर संशोधन पर विचार को गठित सुभाष कुमार समिति की शनिवार को प्रस्तावित बैठक स्थगित हो गई है। अब यह बैठक 21 सितंबर को होगी।प्रदेश में भू-कानून में संशोधन की मांग को लेकर मुहिम तेज होने के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार की अध्यक्षता में चार सदस्यीय समिति गठित की है। इस समिति के अन्य सदस्यों में सेवानिवृत्त आइएएस डीएस गब्र्याल और पूर्व सचिव अरुण ढौंडियाल शामिल हैं। राजस्व सचिव वीबीआरसी पुरुषोत्तम समिति के सदस्य सचिव हैं। समिति की शनिवार को प्रस्तावित पहली बैठक स्थगित हो गई। अब यह बैठक मंगलवार को होगी।

यह भी पढ़ें- 25 हजार लेकर कर्नल को सुरक्षा गार्ड की नौकरी, शासन ने जांच बिठाई, दस दिन के भीतर रिपोर्ट तलब

Edited By: Raksha Panthri