देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: केदारनाथ धाम में विभिन्न निर्माण कार्य और तीर्थ यात्रियों के लिए सुविधाएं विकसित करते वक्त इस बात का विशेष ख्याल रखा जाएगा कि मंदिर की भव्यता व दिव्यता बरकरार रहे। सोमवार को सचिवालय में मुख्य सचिव एस रामास्वामी की अध्यक्षता में हुई बैठक में विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री ने केदारनाथ धाम में जिन परियोजनाओं का शिलान्यास किया, उनके कार्यों में तेजी लाई जाए। इसके लिए अलग से अधिकारियों की तैनाती के निर्देश मुख्य सचिव ने दिए। 

मुख्य सचिव ने कहा कि केदारपुरी में होने वाले कार्यों की लगातार मॉनीटरिंग और समीक्षा की जाए। बताया गया कि सिंचाई विभाग घाट और पर्यटन विकास विभाग एप्रोच रोड का निर्माण करेगा। पानी, बिजली, मार्ग समेत अन्य बुनियादी सुविधाओं का विकास संबंधित विभाग करेंगे। सभी कार्य इस तरह से होंगे कि मंदिर का दृश्य दूर से ही नजर आए। मार्ग के दोनों तरफ बैठने और पानी की सुविधा होगी। 

जानकारी दी गई कि केदारपुरी में प्रहर के अनुसार संगीत का वादन होगा। मंदिर के चारों ओर परकोटे बनेंगे। निर्माण कार्यों में इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा कि इसका मूल स्वरूप बना रहे। 

केदारपुरी में होने हैं ये कार्य 

-सरस्वती नदी पर बाढ़ सुरक्षा और घाट निर्माण। 

-तीर्थ पुरोहितों के लिए आवासीय भवनों का निर्माण। 

-मंदिर परिसर तक पहुंचने को मुख्य मार्ग का चौड़ीकरण व सौंदर्यीकरण। 

-मंदाकिनी नदी पर बाढ़ सुरक्षा और घाट निर्माण कार्य। 

-जगदगुरु आद्य शंकराचार्य कुटीर व संग्रहालय का निर्माण। 

यह भी पढ़ें: पटरी पर आ रहा पर्यटन, चार लाख से ज्यादा यात्रियों ने किए बाबा केदार के दर्शन

यह भी पढ़ें: केदारपुरी के डिजायन और शिल्प पर होगी पीएम मोदी की नजर

यह भी पढ़ें: शीतकाल के लिए केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद

Posted By: raksha.panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस